• Download Dailyhunt App

Sign UP / Sign In



 

Category

Home > Hindi > Dahakate Shahar

Dahakate Shahar ( दहकते शहर )

Author: वेद प्रकाश शर्मा

Hindi

100 ( 40% off)
60

  • My Rating


  • Review Title


  • Review Comment



To read this book you need to Download the Dailyhunt App on your phone. Available in Android, Windows & Iphone

वातावरण शहनाइयों की मधुर ध्वनि से गूंज उठा।हर तरफ प्रसन्नता में डूबे कहकहे,प्रत्येक मुखड़े पर खुशी और सिर्फ खुशी-ही-खुशी थी।और सिर्फ खुशी-ही-खुशी थी ।रघुनाथ की विशाल कोठी-जो वर्षों से किसी मासूम कई किलकारियों के लिए सूनी-सूनी-सी पड़ी थी । आज इस प्रकार जगमगा रही थी-मानो पूनम की रात का धुला-आकाश ।रघुनाथ भारतीय केंद्रीय खुफिया विभाग का एक होनहार जासूस था । उसका विवाह रैना से हुए काफी लंबा अरसा बीत गया था, किंतु किसी संतान ने जन्म न लिया ।लेकिन अब!मानो विधाता ने समस्त खुशियां एक ही साथ उनकी झोली में डाल दी हों । रघुनाथ की पत्नी ने एक शिशु को जन्म दिया । दुनिया में आने वाले इस नए मेहमान के स्वागत में ही ये शहनाइयां गूंज रही थीं, कोठी दुल्हन बनी हुई थी ।बड़े-बड़े ऑफिसर्स.. .शहर के ही नहीं, बल्कि देश के प्रतिष्ठित व्यक्ति भी इसे नए मेहमान को आशीर्वाद देने हेतु पधारे थे ।

  • Release Date:
  • Book Size: 414 KB
  • Language: Hindi
  • Category: Upanyas
  • Similar Books: Ved Prakash Sharma

  • 2017-09-06 23:16:00.0

    Amit Prem


    लाजवाब

    वेदप्रकाश जी की कलम में जादू है, एक बार पढ़ना शुरू किया तो किताब खत्म होने तक हिलना बंद हो जाता है, वैसी ही है ये किताब जासूसी उपन्यास पढ़ने के शौकीन लोगों को एक बार जरूर पढ़नी चाहिए।

  • 2017-08-20 10:40:34.0

    Prashant P


    Digital india job,,,,,.

    ✅JOB✅JOB✅  Digital India        10000 15000     JOB  9⃣4⃣1⃣0⃣1⃣6⃣6⃣7⃣0⃣5⃣  Whatsapp 

  • 2017-07-20 22:31:32.0

    Yayati


  • 2017-06-25 20:56:47.0

    Mayank Dande


    ▶ONLINE PART-TIME JOB◀ घर बैठे अपने फोन से,बिना पैसा लगाये( ₹-1500 से ₹-3500)तक कमायें जानकारी के लिये "JOIN " लिखकर 8⃣1⃣2⃣0⃣5⃣8⃣7⃣0⃣9⃣5⃣ पर Whatsapp करें

  • 2017-05-13 08:59:17.0

    ashok tiwari


  • 2017-05-04 12:50:32.0

    Devkush Kalsi


    Good

    Nice

  • 2017-03-31 12:11:40.0

    Bhavesh Fufal


  • 2017-03-25 13:04:04.0

    Mazhar Ansari


  • 2017-03-23 08:32:11.0

    Naresh Dishoriya


  • 2017-03-18 19:37:43.0

    Banshraj Tiwari


  • 2017-03-09 17:53:26.0

    Ravi Kumar


  • 2017-02-24 11:09:30.0

    Braham Dutt Awasthi


  • 2017-02-19 12:36:49.0

    uday


  • 2016-12-25 14:19:23.0

    NITISH KUMAR


    Very good book.

  • 2016-11-15 12:21:31.0

    Yogesh Gupta


  • 2016-10-27 14:41:07.0

    Shera Choudhery


    Very very nice

    वेद सर !के सभी उपन्यास मेरे पास है ,वस यही !नही पड पाया था !आज पड़ा तो सपना पूरा हो गया! बहुत धन्यवाद डेलीहनट का





Top

If you want to read ebooks please download our app in your favorite mobile