Tuesday, 29 Sep, 3.21 am दैनिक सवेरा टाइम्स

विदेश
कोरोना वायरस के स्रोत पर चीन पर दोष नहीं मढ़ना चाहिए

विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा आयोजित न्यूज ब्रीफिंग में एक भारतीय संवाददाता ने कोरोना वायरस के स्रोत की खोज पर सवाल पूछा। उन्होंने फिर से चीन के बारे में अफवाह फैलायी। डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस अधनोम घेब्रेयसस ने मौके पर खंडन किया।

घेब्रेयसस ने कहा कि डब्ल्यूएचओ विज्ञान और सबूत पर विश्वास करता है। यह कायम रखना पड़ता है। कुछ लोगों ने कहा कि कोरोना वायरस प्रयोगशाला से निकला है, लेकिन अब तक सभी थीसिस बताते हैं कि वायरस प्रकृति से आया है। कोई भी व्यक्ति कोरोना वायरस से जुड़ी बात करता है, वास्तविक वैज्ञानिक अधिप्रमाणीकरण करना पड़ता है।


वैज्ञानिकों ने पहले भी पशुओं से मानव में संक्रमित रोगजन के बहुत सारे अनुसंधान किये थे। वायरस का स्रोत निश्चित करने में समय की जरूरत है, इस दौरान बहुत विस्तृत जांच करने की आवश्यकता है। अगर वायरस का स्रोत नहीं जानता, तो वायरस के फिर से मानव में संक्रमित होने की संभावना है।

लेकिन कुछ राजनीतिज्ञों और संवाददाताओं ने सबूत के बिना कोविड-19 महामारी पर चीन पर कालिख पोती, यह गैर-जिम्मेदाराना है। अब कोरोना वायरस के स्रोत के बारे में अंतिम निष्कर्ष नहीं निकाला गया है, अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को एकजुट होकर महामारी की रोकथाम करना सही रास्ता है। वायरस के स्रोत का पता लगाना एक बहुत ही जटिल वैज्ञानिक मुद्दा है। हमें वायरस पर लेबल नहीं लगाना चाहिए, महामारी का राजनीतिकीकरण नहीं करना चाहिए और अन्य देश पर कालिख नहीं पोतनी चाहिए।

कोविड-19 महामारी चीन में फैलने लगी, लेकिन इसका मतलब नहीं है कि इसका स्रोत चीन में है। अनुसंधान बताते हैं कि अक्तूबर 2019 में बहुत-से यूरोपीय और अमेरिकी देशों में कोविड-19 मामले होने की संभावना थी, लेकिन लोगों ने इसे फ्लू समझा।

कोविड-19 महामारी दुनिया के सभी देशों के सामने मौजूद समान चुनौती है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को एकजुट होकर इसका मुकाबला करने के साथ अफवाह का विरोध करना चाहिए। महामारी के सामने विज्ञान, विवेक और सहयोग की जरूरत है। हमें विज्ञान से अज्ञान को हराना चाहिए और सहयोग से पक्षपात का विरोध करना चाहिए।

(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)


Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Dainiksaveratimes hindi
Top