Friday, 07 Aug, 9.04 am Himachal Abhi Abhi

होम
अब Metro Coach में खुलेंगे रेस्टोरेंट-ढाबे, जानिए कैसे शुरू कर सकते हैं काम

कोरोना महामारी ने कई लोगों का रोजगार छीन लिया है। दुकान और व्यापार चलाने वाले लोगों का तो धंधा ठप है। अब लोगों के सामने रोजगार का एक बेहतरीन मौका है। आप मेट्रो (Metro) में कोच लेकर उसमें रेस्टोरेंट खोल सकते हैं। नोएडा मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (NMRC) लोगों के लिए ये रोजगार का बेहतरीन मौका लेकर आई है। एनएमआरसी की इस पहल के तहत इच्छुक लोगों को मेट्रो कोच में दुकान, ढाबा और रेस्टोरेंट खोलने की अनुमति दी जाएगी। इस स्कीम के तहत आप 13 अगस्त तक ही आवेदन कर सकते हैं। हम आपको विस्तार से बताते हैं कि आपको किस तरह कोच में काम करने का अवसर मिल पाएगा

NMRC सेक्टर-137 मेट्रो स्टेशन के सामने आपको बिना किसी बिल्डिंग एनएमआरसी की तरफ से मिले कोच में अपना ढाबा या रेस्टोरेंट चलाने की इजाजत होगी। एनएमआरसी के अधिकारियों के अनुसार मेट्रो कोच में कारोबारी गतिविधियों के लिए टेंडर निकाला जाएगा, जो एजेंसी टेंडर में चुनी जाएगी उसे मेट्रो कोच में दुकान, ढाबा या रेस्टोरेंट खोलने का मौका मिलेगा, जो बेहतर इनकम का शानदार मौका होगा।

बता दें कि अगर सेक्टर-137 स्टेशन (Sector-137 Station) पर ये प्लान कामयाब रहा और योजना सफल हुई तो फिर सेक्टर-51 और परी चौक मेट्रो स्टेशनों पर भी ऐसे कोच लगाए जाएंगे। जहां तक टेंडर में चुनी जाने वाली एजेंसी का सवाल है तो उसे कोच के अंदर रेस्टोरेंस या ढाबा खोलने की परमिशन होगी। साथ ही अगर एजेंसी बड़े पैमाने पर काम न करना चाहे तो कुछ लोगों को अपने साथ मिला कर वह इनमें दुकानें भी खोल सकती है। यहां किताबें, हैंडीक्राफ्ट का सामान आदि बेचा जा सकता है। एनएमआरसी की जारी की गई नोटिफिकेशन के अनुसार कोच 9 साल के लिए मिलेगा और फिर इसे रिन्यू कराना पड़ेगा। इन कोचों के अंदर आपको खाना खाते हुए असली मैट्रो की फीलिंग आएगी। इन कोचों में सीट, पोल, हैंडल भी लगे होंगे। मेट्रो के एक अधिकारी के मुताबिक रेस्टोरेंट या ढाबा खोलने के लिए पहले से ही ग्रेटर नोएडा मेट्रो डिपो में एक ट्रेन मौजूद है। सेक्टर-137 मेट्रो स्टेशन के बाहरी कैम्पस में बहुत अधिक जगह है। इसी जगह तक मेट्रो कोच पहुंचाया जाएगा, जिसके लिए ट्रक की सहायता ली जाएगी। ट्रक के जरिए ले जाए जाने वाले मेट्रो कोच को एक तय जगह पर रखा जाएगा।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Himachal Abhi Abhi
Top