Tuesday, 31 Jul, 11.40 am Live Bihar

होम
असम में बिहार के लोगों को नागरिकता के नाम पर किया जा रहा परेशान, NRC का फाइनल लिस्ट जारी

PATNA : असम में राष्ट्रीय नागरिकतारजिस्टर (एनआरसी) की दूसरी सूची सोमवार को जारी कर दी गई। इसमें 2.89 करोड़ लोगों को असम का नागरिक माना गया है जबकि यहां रह रहे 40.7 लाख लोगों का नाम इस सूची में नहीं है। इसमे बिहार-झारखंड सहित अन्य राज्य के कई हजारों लोग भी शामिल हैं।

उधर दूसरी ओर बिहार के कई लोगों ने लाइव बिहार को फोन पर बताया कि विदेशी नागरिकों के नाम पर असम में रह रहे बिहार के लोगों को भी परेशान किया जा रहा है। हम लोगों ने विधिवत पूरे डॉक्यूमेंट के साथ एनआरसी फॉर्म भरा था, लेकिन हम लोगों का नाम इस लिस्ट से बाहर है। अब सवाल उठता है कि क्या बिहार के लोग भारत के नागरिक नहीं हैं। क्या असम में रह रहे करोड़ों बिहारियों को असम में रहने का अधिकार नहीं हैं।

असम सरकार में कार्यरत और मधुबनी निवासी संतोष झा ने बताया कि उन्होंने 1963 का जमीन कागज दिया था। उसी कागज के आधार पर उनके सगा संबंधियों ने भी नागरिक होने का दावा किया था। उन लोगों के नाम एनआरसी में आ चुका है लेकिन उनके परिवार का नहीं आया है। उन्होंने आरोप लगाया कि यह गलती एनआरसी सेंटर से हो रहा है।

वहीं असम के वरिष्ठ पत्रकार और दैनिक पूर्वोदय के संपादक रवि शंकर रवि ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए बताया कि एनआरसी में वेरिभिकेशन के कारण लोगों को परेशानी हो रही है। बिहार-झारखंड सहित अन्य जिले के जो लोग असम में रह रहे हैं उनकी नागरिकता साबित करने में परेशानी हो रही है। यहां के हिंदी भाषी संगठन को चाहिए कि अन्य राज्यों में जाकर वहां के सीएम और अन्य प्रशासनिक अधिकारियों से मिलें और इस ओर ध्यान दें।

बताते चले कि भारतीय महापंजीयक शैलेश ने सूची जारी करते हुए कहा कि इस ऐतिहासिक दस्तावेज में अपना नाम दर्ज कराने के लिए 3.29 करोड़ लोगों ने आवेदन किया था। 2.89 करोड़ के दावे उनके द्वारा दिए गए दस्तावेजों से प्रमाणित किए जा सके। यह दस्तावेज असम का निवासी होने का प्रमाण पत्र होगा। इतनी बड़ी संख्या में लोगों के नाम शामिल न होने पर टिप्पणी से इनकार करते हुए एनआरसी के प्रदेश समन्वयक प्रतीक हाजेला ने कहा, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार यह प्रक्रिया पूरी की गई है। उधर गृहमंत्री ने कहा कि जिनका नाम सूची में नहीं है उन्हें विदेशी घोषित नहीं किया जाएगा, उन्हें नागरिकता साबित करने के मौके दिए जाएंगे।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Live Bihar
Top