Aaradhika Epaper, News, Aaradhika Hindi Newspaper | Dailyhunt
Hindi News >> Aaradhika

Aaradhika News

  • होम

    श्रीमद् आदिशंकराचार्य द्वारा कृष्णभक्ति में रचित अच्युताष्टकम्

    श्रीमद् आदिशंकराचार्य को लोग वेदान्ती समझते हैं; लेकिन वे एक सच्चे वैष्णव थे । उन्होंने...

    • 5 days ago
  • होम

    योगमाया किसे कहते हैं ?

    जब भी हम भगवान श्रीकृष्ण की लीलाओं को पढ़ते हैं तो अक्सर योगमाया का नाम आता है । प्रश्न यह है कि ये योगमाया या महामाया कौन हैं ? इस ब्लॉग में भगवान की...

    • 5 days ago
  • होम

    श्रीराधा की जन्म-आरती, बधाई और पलना के पद

    भाद्रपदमास की शुक्लपक्ष की अष्टमी 'श्रीराधाष्टमी' के नाम से जानी जाती है । इस दिन श्रीराधा का जन्म उत्सव मध्याह्नकाल (दोपहर)...

    • 5 days ago
  • होम

    कृष्णं वन्दे जगद्गुरुम्

    यह संसार मायामय है । संसार में जो जन्म लेता है, उसे माया का शिकार होना पड़ता है । काम, क्रोध, लोभ, मोह, हितेषणा, वित्तेषणा, पुत्रेषणा-ये सब माया की सेना...

    • 2 weeks ago
  • होम

    साग विदुर घर खायो

    परमात्मा का दूसरा नाम प्रेम है और वे प्रेम के विवश हैं, प्रेमाधीन हैं । वे प्रेम के अतिरिक्त अन्य किसी साधनों से नहीं रीझते हैं । प्रेम ईश्वर के लिए महापाश...

    • 2 weeks ago
  • होम

    मधुरता के ईश्वर श्रीकृष्ण

    परमात्मा का सबसे सुन्दर और माधुर्य से भरा मानवीय रूप हैं भगवान श्रीकृष्ण । निर्गुण, निराकार परब्रह्म जब आनन्द अवतार के रूप में सगुण, साकार रूप...

    • 2 weeks ago
  • होम

    भगवान का रूप इतना सुन्दर क्यों होता है ?

    भगवान कितने सुन्दर हैं, यह तो कोई उनके भक्तों से पूछे । एक भक्त कहता है- जाहिं देखि चाहत नहीं कछु देखन मन मोर । बसै सदा मोरे दृगनि सोईं...

    • 2 weeks ago
  • होम

    विष्णु सहस्त्रनाम के पाठ की महिमा

    जिन पापों की शुद्धि के लिए कोई उपाय नहीं, उनके लिए भगवान के सहस्त्रनामों का पाठ सर्वोत्तम उपाय माना जाता है । सहस्त्रनामों के पाठ से सहज...

    • 3 weeks ago
  • होम

    पाद-सेवन भक्ति की आचार्या लक्ष्मीजी

    भक्ति नौ प्रकार की मानी गयी है- श्रवणं कीर्तनं विष्णो: स्मरणं पादसेवनम् । अर्चनं वन्दनं दास्यं सख्यमात्मनिवेदनम् ।। नवधा भक्ति के नौ...

    • 3 weeks ago
  • होम

    भगवान के हरिहर स्वरूप का क्या है रहस्य ?

    वेद में कहा गया है कि परमात्मा माया के द्वारा अनेक रूप वाला दिखाई देता है और सृष्टि-स्थिति और प्रलय की लीला के लिए 'ब्रह्मा, विष्णु...

    • 4 weeks ago

Loading...

Top