JANATA KI KHABAR

@bjmziro1544023273888

18 Jan 2022.3:37 PM

9k Views

सुवर्ण प्राशन -गुरु गोरक्षनाथ इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज बालापार का बच्चों को अनोखा वरदान

गोरखपुर।गुरु गोरक्षनाथ इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज बालापार रोड सोनबरसा गोरखपुर द्वारा गोरखपुर और आसपास के बच्चों के लिए सुवर्ण प्राशन के रूप में एक अनोखा वरदान दिया गया यहां। आयोजित कैम्प में जन्म से लेकर 16 साल के बच्चों के लिए सुवर्ण प्राशन कैंप का भव्य आयोजन किया गया कैंप का उद्घाटन गुरु गोरक्षनाथ विश्वविद्यालय के कुलपति मेजर जनरल अतुल बाजपेई ने एक बच्चे को स्वर्ण प्राशन ड्राप पिलाकर किया इस मौके पर उन्होंने बताया कि स्वर्ण प्राशन आयुर्वेद में कश्यप ऋषि का बच्चों के लिए बुद्धिमान बलवान और तेजस्वी बनाने के लिए दिया गया एक वरदान है उन्होंने आए हुए अभिभावकों से अधिक से अधिक संख्या में आकर बच्चों को स्वर्ण प्राशन ड्राप पिलाने की अपील की .
स्वर्ण प्रसन्न संस्कार आयुर्वेद का वरदान है जिसके सेवन से बच्चे बलवान बुद्धिमान निरोगी एलर्जी मुक्त दीर्घायु एवं सुंदर होते हैं बच्चे को बेहतर स्वास्थ्य और बीमारियों से बचाने के लिए स्वर्ण प्राशन बहुत जरूरी है जन्म से लेकर 16 वर्ष की आयु तक स्वर्ण प्राशन कराया गया है सुवर्णप्राशन संस्कार आयुर्वेदिक चिकित्सा की वह धरोहर है जिसमें उन्हें होने वाली मौसमी बीमारियों से बचाता है और आजीवन बेहतर स्वास्थ्य प्रदान करता है सुवर्ण प्राशन संस्कार के बारे में बताते हुए बाल रोग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ आदित्य नारायण उपाध्याय ने इसकी अनगिनत खूबियों पर प्रकाश डाला और बताया कि इस औषधि को केवल पुष्य नक्षत्र में योग्य चिकित्सकों के निर्देशन में बनाया जाता है इस अवसर पर गोरक्षनाथ इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंसेज के कुलसचिव डॉ प्रदीप राव आयुर्वेद विभाग के अधीक्षक डॉ एस एन सिंह एवम आयुर्वेद विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ आदित्य नारायण उपाध्याय तथा विभाग के आवासीय चिकित्साधिकारी डॉ भीम सिंह डॉ प्रिय भूषण मल डॉ धर्मेंद्र सिंह व डॉक्टर अनुपमा अवस्थी का विशेष योगदान रहा कैम्प में हजारों की संख्या में बच्चों को सुवर्ण प्राशन ड्राप पिलाया गया ।कुलसचिव डॉ प्रदीप राव ने आये हुए सभी अतिथियों का आभार प्रकट किया .
Disclaimer

Disclaimer

This content has been published by the user directly on Dailyhunt, an intermediary platform. Dailyhunt has neither reviewed nor has knowledge of such content. Publisher: JANATA KI KHABAR