Friday, 03 Jul, 4.10 pm Dainik Bhaskar Hindi

Posts
नस्लभेद: वेस्टइंडीज के बाद अब इंग्लैंड टीम भी टेस्ट सीरीज में 'ब्लैक लाइव्स मैटर' लोगो वाली टी-शर्ट पहनेगी, ICC ने दी मंजूरी

इंग्लैंड क्रिकेट टीम 8 जुलाई से वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू हो रहे 3 मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले मैच में शर्ट पर 'ब्लैक लाइव्स मैटर' का लोगो लगाकर उतरेगी। यह फैसला इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने लिया है। टेस्ट टीम के नियमित कप्तान जो रूट और पहले टेस्ट में टीम के कार्यवाहक कप्तान बेन स्टोक्स ने भी इसका समर्थन किया है। 

इससे पहले विंडीज टीम ने भी इस लोगो के साथ उतरने का फैसला किया था। जिसमें अब उसे इंग्लैंड टीम से समर्थन मिला है। ECB के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) टॉम हैरिसन ने कहा, ECB पूरी तरह से उस संदेश के साथ है जो ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन देता है। यह एकता और समाजिक बदलाव का संदेश बन गया है। समाज और खेल में नस्लवाद की कोई जगह नहीं हो सकती और हमें इसे रोकने के लिए कदम उठाने चाहिए।

वहीं रूट ने कहा, अश्वेत समुदाय के साथ समर्थन दिखाना और एकता तथा न्याय जैसे मुद्दों के प्रति जागरूकता फैलाना काफी अहम है। इंग्लैंड के खिलाड़ी और प्रबंधन इसके लिए एक साथ हैं और इंटरनेशनल क्रिकेट के मंच को इस आंदोलन के संदेश को शेयर करने में मदद करेंगे। हाल ही में अमेरिका में अश्वेत शख्स जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी। जिसके बाद पूरे विश्व में आक्रोश देखा गया और यहीं से ब्लैक लाइव्स मैटर नाम के आंदोलन का जन्म हुआ।

होसनाह ने डिजाइन किया है 'ब्लैक लाइव्स मैटर' वाला लोगो
रिपोर्ट के अनुसार, 'ब्लैक लाइव्स मैटर' लोगो को ग्राफिक्स डिजाइनर अलीशा होसनाह ने तैयार किया है। होसनाह वॉडफोर्ड के कप्तान टोय डीने की पार्टनर हैं। ठीक इसी तरह का लोगो इंग्लिश प्रीमियर लीग (ईपीएल) में भी इस्तेमाल किया गया था। इस फुटबॉल लीग की सभी 20 टीमों के खिलाड़ी लोगो वाली टी-शर्ट पहनकर ही मैच खेले थे।

क्रिकेट इतिहास में यह बड़ा बदलाव: होल्डर
वेस्टइंडीज के कप्तान जेसन होल्डर ने कहा था, यह खेल, क्रिकेट और वेस्टइंडीज टीम के इतिहास में बड़ा बदलाव है। हम यहां विजडन ट्रॉफी जीतने आए हैं, लेकिन दुनिया में जो रहा है, उससे भी वाकिफ हैं और इंसाफ तथा समानता के लिए लड़ेंगे। उन्होंने कहा, हमने यह लोगो पहनने का फैसला हल्के में नहीं लिया। हमें पता है कि, रंग पर टिप्पणी होने पर कैसा लगता है। समानता और एकता जरूरी है। जब तक वह नहीं होगी, हम चुप नहीं बैठ सकते। 

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Dainik Bhaskar Hindi
Top