Saturday, 01 Aug, 11.03 pm First India News

राजस्थान
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ.सतीश पूनियां की नई टीम, युवाओं पर इस टीम में रखा गया है खास फोकस

जयपुर: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर सतीश पूनिया की प्रदेश पदाधिकारियों की नई टीम की घोषणा में इस बार युवाओं पर खास फोकस किया गया है तो दूसरी तरफ इस टीम में जातिगत संतुलन बिठाने की कोशिश की गई है. भारतीय जनता पार्टी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया की नई टीम में इस बार तमाम जातिगत संतुलन और प्रमुख नेताओं की सलाह मशवरा लेने के अलावा r.s.s. कैंप की चर्चा के बाद घोषणा की गई है. इस फेहरिस्त में 5 ब्राह्मण 5 दलित तीन वैश्य दो जाट दो राजपूत एक सिख यानी पुरुषार्थी समाज से एक विश्नोई व आदिवासी समुदाय से दो लोगों को जगह मिली है. गुर्जर तबके से एक यादव से एक कुमावत एक माली एक को तवज्जो मिली है. इस पूरी शायरी में दलित और आदिवासी तबके के लोगों को भी खास तवज्जो दी गई है. दो सांसद जिनमें की चंद्र प्रकाश जोशी उपाध्यक्ष और दिया कुमारी को महामंत्री के तौर पर जगह दी गई है.

नई टीम की लिस्ट

उपाध्यक्ष
सरदार अजय पाल सिंह, चंद्रकांता मेघवाल, सीपी जोशी, डॉ अलका सिंह गुर्जर, हेमराज मीणा, प्रसन्न मेहता, मुकेश दाधीच, माधुराम चौधरी

प्रदेश महामंत्री

मदन दिलावर, भजनलाल शर्मा, दिया कुमारी, सुशील कटारा के नाम शामिल है.

प्रदेश मुख्य प्रवक्ता
विधानसभा से लेकर प्रदेश कार्यालय और टीवी चैनल्स पर पार्टी की बात मुखरता के साथ रखने वाले प्रखर तेज तर्रार युवा नेता और तीसरी बार के विधायक रामलाल शर्मा को प्रदेश मुख्य प्रवक्ता बनाया गया.

प्रदेश मंत्री
जितेंद्र गोठवाल, अशोक सैनी, महेंद्र यादव, केके विश्नोई, श्रवणसिंह बागड़ी, मधु कुमावत, विजेंद्र पुनिया, महेंद्र जाट और वंदना नोगिया

प्रदेश कोषाध्यक्ष
राम कुमार भूतड़ा
प्रदेश सह कोषाध्यक्ष पंकज गुप्ता

प्रदेश कार्यालय मंत्री राघव शर्मा

प्रदेश पदाधिकारियों की टीम की घोषणा के साथ ही भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कई सवालों के खुलकर जवाब दिए. सतीश पूनिया ने वसुंधरा राजे गुलाबचंद कटारिया राजेंद्र राठौड़ इनके नामों को शामिल किए जाने के सवाल पर जवाब दिया कि सभी की अनुशंसा को समाहित करना बड़ी चुनौती होती है. लेकिन वह भी पार्टी के ही नामों को देते हैं। मुझे जो सुविधा थी मैंने उस लिहाज से सभी से बातचीत की है. सलाह मशवरा किया है और जो योग्य लगा उसे अवसर दिया है.

उन्होंने कहा कि इस पदाधिकारियों की लिस्ट में एक कार्यकर्ता ऐसा है जो मंडल के महामंत्री से सीधे प्रदेश का मंत्री बना है. हमारे यहां दूसरे दलों की तरह भरमार नहीं होती बहुत लिमिटेड जगह होती है 69 लाख कार्यकर्ताओं में जगह पाना बड़ी बात है. पूनिया ने कहा कि सामाजिक सोशल इंजीनियरिंग पर फोकस किया गया है समाज का राजनीतिक पहलू और सामाजिक पहलू को ध्यान रखा गया है. इस दौरान उन्होंने कहा कि लोकसभा विधानसभा में जनप्रतिनिधियों में अपार शक्ति होती है लेकिन संगठन के कामों में प्राथमिकता उन्हें दी जाती है जो तमाम तबकों को जोड़ सकें.

इस दौरान एक खास सवाल जिसमें कि पुनिया से पूछा गया कि सतीश पूनिया के खुद की टीम के लोगों को ज्यादा तवज्जों नही मिली. तो जवाब दिया कि मेरा पार्टी में लंबा अनुभव है मेरी कार्यकर्ताओं के चूल्हे तक संपर्क है अपेक्षा स्वभाविक होती है लेकिन मैं अपने लोगों को बनाता तो संदेश ठीक नहीं जाता जिन्हें मेरे प्रति अनुराग है पार्टी के प्रति निष्ठा है उन्हें निश्चित रूप से आगामी दिनों में सम्मानजनक जगह दी जाएगी.

इस दौरान पूर्वी राजस्थान के मीणा तबके को जगह नहीं दिए जाने साथ ही किसी भी अल्पसंख्यक को इस बार भी मुख्य टीम में जगह नहीं मिलने की बात पर उन्होंने कहा कि लिमिटेशंस होती है लेकिन जिन्हें जगह नहीं मिली है उन्हें जिलों में भी जगह दी गई है अन्य पदों पर जगह दी गई है और आगामी दिनों में मोर्चा में और पार्टी के अन्य कामों में उन्हें भी सेट किया जाएगा. पुनिया ने कहा कि सामाजिक संतुलन के लिहाज से अन्य मोर्चा में और अन्य कार्यों में भी अन्य समाजों के लोगों को जगह दी जाएगी इस दौरान उन्होंने कहा कि कोरोना के दौरान अच्छा काम करने वालों को भी इस फेहरिस्त में जगह दी गई है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए ऐश्वर्य प्रधान की रिपोर्ट

Rajasthan Corona Updates: पिछले 24 घंटे में 14 मौत, 1160 नए केस, अलवर में​ मिले सर्वाधिक 207 पॉजिटिव मरीज

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: First India News
Top