menu
हरिभूमिहोम

भीमराव अम्बेडकर जयंती: इस वजह से अम्बेडकर ने स्वीकारा था बौद्ध धर्म

14 April 2018, 10:53 am

दलित उत्थान को लेकर नयी धर्म-सामाजिक वैचारिकी को राष्ट्रीय स्तर पर शुरू किए जाने का श्रेय मुख्यतः डा. भीमराव अम्बेडकर को दिया जाता है। हिन्दू धर्म की रूढ़ियों से त्रस्त अंबेडकर ने लाखों अनुयायियों के साथ बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया था। उनकी समझ थी कि एक समतामूलक समाज भूमि पर खड़ा होने का पहला मौका दलित वर्ग को मिला। ऐसा नहीं है कि अंबेडकर ने समाज के लिए धर्म की आवश्यकता प्रतिपादित नहीं की। अपने अनुयायियों को उन्होंने कुछ विशिष्ट मानकों पर धर्म की गतिशीलता को जांचने का आग्रह भी किया।

No Internet connection

Link Copied