Saturday, 10 Aug, 12.33 pm हरिभूमि

होम
राजस्थान : मोर्चरी के बजाय खुले में हो रहा पोस्टमार्टम, DM ने दिए जांच के आदेश

राजस्थान में स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर एक तरफ सीएम अशोक गहलोत बड़े बड़े वादे कर रहे हैं तो दूसरी तरफ खुले में हो रहे पोस्टमार्टम ने उन्हें आईना दिखा दिया। इंसानी शवों के साथ जानवरों की लाशों की तरह व्यवहार किया जा रहा।

प्रदेश के पाली जिले से शुक्रवार को एक खौफनाक तस्वीर आई जहां एक लड़की की लाश को किसी पोर्टमार्टम हाउस में नहीं बल्कि नदी के किनारे पोस्टमार्टम किया जा रहा है। तीन डॉक्टरों की टीम ने बिना किसी पर्दे के ही खुले में पोस्टमार्टम करके रिपोर्ट बना दिया।

फोटो के वायरल होने के बाद स्वास्थ्य महकमें के साथ सरकार में भी हड़कंप मच गया। लड़की के पिता पीताराम ने कहा कि पुलिस ने उनसे पोर्टमार्टम के बारे में कुछ नहीं पूछा। वह बेटी की हत्या किए जाने की आशंका जता रहे हैं।

वहीं कलेक्टर दिनेशचंद्र जैन ने कहा कि मेडिकल बोर्ड के मामले में पोर्टमार्टम मोर्चरी में ही किया जाना चाहिए अगर ऐसा नहीं हुआ तो ये गलत हुआ। मामले की जांच की जा रही है। साथ ही कहा कि अगर मृतक के परिजन खुले में पोस्टमार्टम करवाने की मांग करते हैं तो किया जा सकता है।

पाली जिले की सीएमओ डॉ. आरपी मिर्धा ने कहा कि खुले मे पोर्टमार्टम किसी भी तरह सही नही है। जिले में 24 स्थानों पर मोर्चरी है। अन्य स्थानों पर भी विभागीय स्तर पर मोर्चरी बनाने के प्रस्ताव भेजे गए हैं जल्द ही वहां भी बनाए जाएंगे।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Haribhoomi
Top