Wednesday, 05 Aug, 9.51 am Himachal Abhi Abhi

होम
Live : पीएम मोदी ने किए रामलला के दर्शन, थोड़ी देर में होगा भूमि पूजन

अयोध्या। राम नगरी अयोध्या में भव्य श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण का लंबा इंतजार आज खत्म होने जा रहा है। पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) रामजन्मभूमि पहुंच गए हैं। पीएम मोदी ने रामलला के दर्शन किए और उनकी पूजा की। इस दौरान पीएम ने साष्टांग दंडवत प्रणाम किया और परिसर में पारिजात का पौधा लगाया। इससे पहले उन्होंने हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा की जहां पर उनको पगड़ी पहनाई गई। रामलला के दर्शन से पहले हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा करने की आस्था है।

अब से कुछ देर में अयोध्या पहुंच पीएम मोदी राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे। शुभ मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 15 मिनट 15 सेकंड पर पीएम नरेंद्र मोदी के हाथों श्रीराम जन्मभूमि स्थल पर मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन के साथ ही औपचारिक रूप से मंदिर निर्माण के कार्य का शुभारंभ हो जाएगा। इसके साथ ही करोड़ों रामभक्तों के इंतजार के साथ ही उनके सारे संशय और असमंजस भी समाप्त हो जाएंगे।

राम मंदिर के भूमि पूजन से पहले अयोध्या (Ayodhya) राममय हो गई है। हर तरफ राम नाम का संकीर्तन हो रहा है। जय श्रीराम के नारे की गूंज सुनाई दे रही है। हल्की बारिश भी हो रही है। हालांकि, कार्यक्रम स्थल पर वाटरप्रूफ टेंट लगाए गए हैं।

अब लोगों को इंतजार रहेगा तो सिर्फ उस घड़ी का जब मंदिर निर्माण पूर्ण होने के बाद रामलला अपने मूल स्थान पर विराजेंगे। इस ऐतिहासिक पल का साक्षी बनेंगी राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी आदित्यनाथ, संघ प्रमुख मोहन भागवत, श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास समेत तमाम हस्तियां। भूमिपूजन कार्यक्रम (Bhoomi pujan) के दौरान पीएम मोदी करीब तीन घंटे तक रामनगरी में रहेंगे। मंदिर निर्माण के साथ ही अयोध्या और अयोध्यावासियों की परीक्षा भी खत्म हो जाएगी जो हर वर्ष हर पर्व और त्योहार के साथ हर 6 दिसंबर को देनी पड़ती थी। इस तारीख के आसपास दिखने वाली सहमी अयोध्या की तस्वीरें भी अब बीती बात हो जाएगी। भक्तों को अपने अराध्य तक जाने की राह में बाधाएं तो हटेंगी ही सुरक्षा बलों की अनावश्यक टोकाटाकी से भी मुक्ति की राह खुल जाएगी। अयोध्या की छावनी वाली छवि भी बदल जाएगी। राममंदिर निर्माण के साथ हनुमान मंदिर, सीतारसोई, रामखजाना, कैकेयी भवन, कोपभवन, रंगमहल, दशरथ भवन और कनकभवन जैसे कई ऐतिहासिक स्थानों (Historical places) की वीरानगी टूटने का इंतजार भी खत्म हो जाएगा।

गंगा, यमुना, नर्मदा, गोदावरी, कृष्णा, कावेरी, सिंधु, ब्रह्मपुत्र, सतलुज, रावी, चिनाब व व्यास समेत अन्य नदियां। रामभक्तों ने देश के प्रसिद्ध पवित्र कुण्डों का जल भी अयोध्या भेजा है। हल्दीघाटी, चित्तौड़ दुर्ग, स्वर्ण मंदिर के कुण्ड का जल व मिट्टी, वैष्णो देवी, मैसेकर घाट, सभी ज्योतिर्लिंगों के प्रांगण की मिट्टी, सरस्वती उद्गम स्थल का जल व रज, रविदास मंदिर काशी, बाबा साहेब आंबेडकर की इच्छा भूमि व संघ की उद्गम स्थली नागपुर की रज व पवित्र जल, मानसरोवर की पवित्र रज व जल। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि भूमिपूजन/शिलान्यास, ना केवल मंदिर का है, वरन एक नए युग का भी है। प्रभु श्रीराम का जीवन संयम की शिक्षा देता है। हमें भी संयम रखते हुए वर्तमान परिस्थितियों के दृष्टिगत शारीरिक दूरी बनाए रखना है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे घर में ही भूमिपूजन व शिलान्यास के कार्यक्रम को लाइव देखें। घरों में दीपक जलाएं। पूज्य संत एवं धर्माचार्यगण देवमंदिरों में अखंड रामायण का पाठ करें एवं दीप जलाएं।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Himachal Abhi Abhi
Top