Saturday, 18 Jan, 8.03 pm हिन्दुस्थान समाचार

राष्ट्रीय
'धार्मिक उत्पीड़न' का शिकार होकर भारत पहुंचे शरणार्थियों में 70 प्रतिशत दलित : नड्डा

सुशील बघेल

नई दिल्ली, 18 जनवरी (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शनिवार को कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश में 'धार्मिक उत्पीड़न' का शिकार होकर भारत आने वालों में 70 प्रतिशत से अधिक दलित समुदाय से हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनकी पीड़ा को समझा और अब उन्हें नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) से लाभान्वित किया जाएगा।

नड्डा शनिवार को भाजपा मुख्यालय में सीएए को लागू करने पर भारतीय ओड समाज सेवा संघ के तत्वावधान में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का धन्यवाद करने पाकिस्तान से जान बचा कर आए अनुसूचित जाति वर्ग के शरणार्थियों के हार्दिक आभार कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे ।

नड्डा ने कहा कि भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान लंबे समय तक चल रहा था लेकिन वोट बैंक की राजनीति करने वालों ने पाकिस्तान , बांग्लादेश और अफगानिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के शिकार हो सम्मान की जिंदगी जीने आये हिंदू , सिख , बौद्ध , जैन , ईसाई और पारसी शरणार्थियों को नागरिकता नहीं दी।

उन्होंने कहा कि आपसे बेहतर पाकिस्तान को और कौन जान सकता है जहां खुलेआम अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न होता है और उनके मानवाधिकारों का हनन होता है। उन्होंने कहा कि भारत-पाकिस्तान बंटवारा हमारे लिए नासूर था और यह देश के लिए दुर्भाग्य था कि कांग्रेस ने धर्म के आधार पर भारत का बंटवारा स्वीकार किया। महात्मा गांधी, पंडित जवाहरलाल नेहरू, सरदार पटेल, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद से लेकर डॉ. मनमोहन सिंह तक कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने पाकिस्तान-बांग्लादेश से धार्मिक रूप से प्रताड़ना के शिकार अल्पसंख्यक शरणार्थियों को भारत की नागरिकता देने की वकालत की थी लेकिन कांग्रेस वोट बैंक के लालच में नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कर शरणार्थियों के साथ अन्याय कर रही है।

नड्डा ने विपक्ष के सवाल उठाए जाने पर कहा कि सीएए के तहत उन्हीं शरणार्थियों को नागरिकता दी जाएगी जो 31 दिसम्बर, 2019 तक भारत आ चुके हैं और भारत में रह रहे हैं। अब ऐसे राष्ट्रविरोधी तत्वों द्वारा यह भ्रम फैलाया जा रहा है कि नागरिकता संशोधन कानून से भारत के मुसलामानों की नागरिकता चली जाएगी। सीएए नागरिकता देने का कानून है, नागरिकता छीनने का नहीं।

हिन्दुस्थान समाचार

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Hindusthan Samachar
Top