Friday, 23 Oct, 10.37 pm i-Newz

Posts
क्या आप मनोविज्ञान के बारे में जानते हैं?

कॉलेज में मनोविज्ञान की क्लास चल रही थी, प्रोफेसर अपना व्याख्यान चालू रखे थे बीच-बीच में ब्लैक बोर्ड पर कुछ लिखते भी थे जैसे ही उन्होंने ब्लैक बोर्ड पर कुछ लिखने के लिए चॉक उठाया पीछे से किसी स्टूडेंट ने सीटी बजा दी , प्रोफ़ेसर ने पूछा सीटी किसने बजाई :

कोई नहीं बोला सब चुप ;

प्रोफेसर ने कहा चलो आज का लेक्चर यहीं रोकते हैं आज मैं आपको एक कहानी सुनाता हूं |

सब बच्चे राजी हो गए और कहानी तन्मयता से सुनने लगे ,

प्रोफेसर : कल रात मुझे देर तक नींद नहीं आई मैंने सोचा क्यों ना इस समय का सदुपयोग किया जाए | मैंने सोचा कार में पेट्रोल नहीं है पेट्रोल ही भरवा लिया जाए ताकि सुबह कॉलेज जाने में जल्दबाजी ना करना पड़े मैंने कार निकाली और पेट्रोल पंप पर गया और टंकी फुल करवा ली| .

वापस लौटते वक्त देखा कि सड़कें खाली थी तो मैनें सोचा क्यों ना एक-दो लॉन्ग ड्राइव हो जाए मन भी फ्रेश हो जाएगा | .

मैं अभी कुछ ही दूर गया था कि सामने देखा एक खूबसूरत लड़की शेड के नीचे अकेली खड़ी थी | शायद किसी पार्टी से आ रही होगी , मेरे मन में आया कि हो सकता है किसी का इंतजार कर रही हो और उसे लेने वाला ना आ सका हो , इसकी मदद करनी चाहिए | .

स्टूडेंट कहानी सुनने में तल्लीन थे उसका मजा ले रहे थे और कहानी में रमे हुए थे | .

प्रोफेसर .  .: मैं लड़की के पास गया और पूछा मैं उसकी क्या मदद कर सकता हूं , उसने सकुचाते हुए कहा कि मैं एक पार्टी से आ रही हूं और घर जाने के लिए छोटे भाई का इंतजार कर रही हुँ |मैंने उसकी प्रॉब्लम को समझते हुए कहा मैं उसको घर छोड़ सकता हूं वह कार का दरवाजा खोलते हुए आगे की सीट पर सलीके से बैठ गई | वह कनखियों से मुझे देख रही थी , मुझे इसका भान था | देखने में वह बहुत ही सुंदर और आकर्षक थी |मैं कार ड्राइव कर रहा था | हम दोनों में से बोल कोई नहीं रहा था और मन ही मन एक दूसरे के बारे में सोच रहे थे | उसने अपना घर जंक्शन चौबीस के सेकंड लॉन में बताया था | मुझे वहां तक जाने में आधा घंटा का समय लगा | रास्ते भर मैं उसके बारे में सोच रहा था और वह भी मेरे ख्यालों में डूबी हुई थी | .

एक मनोवैज्ञानिक के तौर पर मेरा यह मानना था | .

उसके घर के पास आने पर उसने गाड़ी रोकने का इशारा किया गाड़ी रुक गई | पर उसने उतरने की कोई जल्दी नहीं | उसने अपना परिचय देते हुए अपना नाम पल्लवी बताया और मैं डाक विभाग के किसी ऑफिस में काम करती है | .

और बिना झिझक के उसने कहा कि मैं आपके भलमनसाहत की कायल है और मुझे चाहने लगी है मैंने भी स्वीकार किया कि वह मुझे अच्छी लगती हैं और मैं उसके लिए उचित वर हूं | .

मैंने उसको बताया मैं राजकीय कालेज में मनोविज्ञान का प्रोफेसर है तो वह बड़ी प्रभावित हुई | उसने कहा उसका छोटा भाई उसी कॉलेज में मेरा स्टूडेंट है | उसने यह भी कहा कि मैं उसका विशेष ख्याल रखुँ मैंने कहा उसका नाम क्या है तो उसने बताया उसकी एक पहचान है ' .वह सीटी बहुत मारता है .' | .

और क्लास के सभी स्टूडेंट की नजरें सीटी मारने वाले लड़के पर टिकी थी | .

बात या नहीं थ कि पल्लवी उसके बहन का नाम था बात तो या तो यह कि बिल्ली थैले से अपने आप बाहर आ गई थी | .

प्रोफेसर ने अपने मनोविज्ञान के ज्ञान से कैसे चालाकी से पता लगा लिया कि सीटी मारने वाला कौन है सब स्टूडेंट ने स्वत: यह बता दिया था की किसने बजाई थी | .

प्रोफेसर .  .: .  .मैंने अपनी पीएचडी डिग्री कमाई है खरीदी नहीं है सारे बच्चे हक्के बक्के होकर देख रहे थे प्रोफ़ेसर के चेहरे को | .

#Education News

#Business

#Travel

#ViralLatest

#News

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: i-Newz
Top