Thursday, 12 Dec, 5.46 pm JJP News

होम
IPS अधिकारी के इस्तीफे के बाद अब जानी मानी पत्रकार ने लौटाया अपना अवॉर्ड

नई दिल्ली :नागरिकता संशोधन विधेयक के पास होने के बाद इसके विरोध में इस्तीफों और अवॉर्ड वापसी का सिलसिला शुरु हो गया है। बिल के विरोध में आईपीएस अब्दुर्रहमान के इस्तीफे के बाद अब पत्रकार शिरीन दलवी ने अपना साहित्य अकादमी अवॉर्ड वापस करने का ऐलान किया है।

शिरीन ने इस बात का ऐलान एक पोस्ट के ज़रिए किया है। जिसे द वायर उर्दू के पत्रकार महताब ने ट्विटर के ज़रिए शेयर किया है। शिरीन ने पोस्ट में बिल का विरोध करते हुए इसे संविधान के खिलाफ़ देश को बांटने वाला बताया है। शिरीन दलवी उर्दू पत्रकारिता का एक बड़ा नाम हैं। वह अवधनामा उर्दू अख़बार के मुम्बई संस्करण की संपादिका रह चुकी हैं। उन्हें 2011 में राज्य साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

शिरीन ने अपने पोस्ट में लिखा, "मुझे बीजेपी की अगुवाई वाली सरकार के नागरिकता संशोधन बिल के पास कराए जाने की खबर से दुख हुआ है। नागरिकता बिल के ज़रिए हमारे संविधान और धर्मनिरपेक्षता पर हमला किया गया है और इस अमानवीय कानून के विरोध में मैं अपना राज्य साहित्य अकादमी पुरस्कार वापस कर रही हूं।"

इससे पहले नागरिकता बिल का विरोध करते हुए महाराष्ट्र में भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के वरिष्ठ अधिकारी अब्दुर्रहमान ने अपने पद इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने नागरिकता संशोधन विधेयक को संविधान के मूल ढांचे के ख़िलाफ़ और मुसलमानों के साथ नाइंसाफी करने वाला बताया। उन्होंने देश के तमाम इंसाफ़पसंद लोगों से अपील की कि इस बिल के विरोध में अपनी आवाज़ बुलंद करें।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: JJP News Hindi
Top