Thursday, 09 Jan, 10.35 am Latest News1

होम
थायराइड के लक्षण, कारण, घरेलू उपचार और परहेज

थायरॉइड क्या है? (What is Thyroid in Hindi?)

थायरॉइड ग्रन्थि में आई गड़बड़ी के कारण थायरॉइड से संबंधित रोग जैसेHyperthyroidismयाHypothyroidismहोते है।Thyroidglandको अवटु ग्रन्थि भी कहा जाता है। अवटु याThyroidग्रन्थियाँ मानव शरीर में पाई जाने वाली सबसे बड़ी अतस्रावी ग्रंथियों में से एक है।

यह द्विपिंडक रचना हमारे गले में स्वरयंत्र के नीचेCricoidCartilageके लगभग समान स्तर पर स्थित होती है। शरीर की चयापचय क्रिया में थायरॉइड ग्रंथि का विशेष योगदान होता है।

यहThyroidग्रन्थिTri-iodothyronin(T3) औरThyrocalcitoninनामक हार्मोन स्रावित करती है। ये हार्मोन शरीर के चयापचय दर और अन्य विकास तंत्रों को प्रभावित करते हैं।Thyroidharmoneहमारे शरीर की सभी प्रक्रियाओं की गति को नियंत्रित करता है।

थायरॉइड हार्मोन का काम

आपका शरीर थायरॉइड से ये फायदा होता हैः-

  • थायरोक्सिन (Thyroxine)हार्मोन वसा, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट के चयापचय को नियंत्रित रखता है।
  • यह रक्त में चीनी, कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol)तथा फोस्फोलिपिड की मात्रा को कम करता है।
  • यह हड्डियों, पेशियों, लैंगिक तथा मानसिक वृद्धि को नियंत्रित करता है।
  • हृदयगति एवंरक्तचापको नियंत्रित रखता है।
  • महिलाओं में दुग्धस्राव को बढ़ाता है।

गर्म पानी के फायदे अगर आपको पता चल गये, तो सुखी रहोगे ज़िन्दगी भर

थायरॉइड रोग के प्रकार

थायरॉइड ग्रंथि विकार दो प्रकार के होते हैं-

  • थायरॉइड ग्रंथि की अतिसक्रियता (Hyperthyrodism)
  • अल्पसक्रियता (Hypothyrodism)

थायरॉइड ग्रंथि की अतिसक्रियता ( Hyperthyrodism )

थायरॉइड ग्रंथि की अतिसक्रियता के कारणT4औरT3harmoneका आवश्यकता से अधिक उत्पादन होने लगता है। जब इन हार्मोन्स का उत्पादन अधिक मात्रा में होने लगता है तो शरीर ऊर्जा का उपयोग अधिक मात्रा में करने लगता है। इसे हीहाइपरथायरायडिज्म (Hyperthyroidism)कहते हैं। पुरुषों की तुलना महिलाओं में यह समस्या अधिक देखी जाती है। इसकी पहचान के ये लक्षणों हैंः-

  • थायरॉइड हार्मोन (Thyroidharmone)की अधिकता के कारण शरीर में चयापचय यानी मेटाबोलिज्म (Metabolis)बढ़ जाता है, और हर काम तेजी से होने लगता है।
  • घबराहट
  • चिड़चिड़ापन
  • अधिक पसीना आना।
  • हाथों का काँपना।
  • बालों का पतला होना एवं झड़ना।
  • अनिद्रा (नींद ना आने की परेशानी)
  • मांसपेशियों में कमजोरी एवं दर्दरहना।
  • दिल की धड़कन बढ़ना।
  • बहुत भूख लगने के बाद भी वजन घटता है।
  • महिलाओं मेंमासिक धर्म की अनियमिततादेखी जाती है।
  • ओस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis)हो जाता है, जिसकी वजह से हड्डी में कैल्शियम (Calcium)तेजी से खत्म होता है।

अल्पसक्रियता ( Hypothyrodism )

थायराइड की अल्प सक्रियता के कारणहाइपोथायरायडिज्म (Hypothyroidism)हो जाता है। इसकी पहचान इन परेशानियों से की जा सकती हैः-

  • धड़कन की धीमी गति।
  • हमेशा थकान बना रहना।
  • अवसाद (Depression)
  • सर्दीके प्रति अधिक संवेदनशील होना।
  • मेटाबोलिज्म धीमा पड़ने के कारण वजन बढ़ना।
  • नाखूनों का पतला होना एवं टूटना।
  • पसीने में कमी।
  • त्वचा में सूखापन आना और खुजली होना।
  • जोड़ों में दर्दऔर मांसपेशियों में अकड़न होना।
  • बालों का अधिक झड़ना।
  • कब्ज
  • आँखों में सूजन।
  • बार-बार भूलना।
  • कन्फ्यूज रहना, सोचने-समझने में असमर्थ होना।
  • मासिक धर्म में अनियमितता होना। 28 दिन की साइकिल का 40 दिन या इससे अधिक दिन का होना।
  • चेहरे और आँखों में सूजन।
  • खून मेंकोलेस्ट्रॉल(Cholestrol)का स्तर बढ़ जाना।
  • महिलाओं में इसके कारण बांझपन आ सकता है।

थायरॉइड रोग होने के कारण

थायरॉइड होने के ये कारण हो सकते हैंः-

  • अधिक तनावपूर्ण जीवन जीने से थायरॉइड हार्मोन (Thyroidharmone)की सक्रियता पर असर पड़ता है।
  • आहार में आयोडीन की मात्रा कम या ज्यादा होने से थायरॉइड ग्रंथियाँ विशेष रूप से प्रभावित होती हैं।
  • यह रोग अनुवांशिक भी हो सकता है। यदि परिवार के दूसरे सदस्यों को भी यह समस्या रही हो, तो परिवार के दूसरे सदस्यों को भी हो सकती है।
  • महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान थायरॉइड हार्मोन्स में असंतुलन देखा जाता है, क्योंकि इस समय महिलाओं के शरीर में कई हार्मोनल बदलाव आते हैं।
  • भोजन में सोया उत्पादों का अधिक इस्तेमाल करने के कारण।

99 प्रतिशत लोग नही जानते हैं गीला खजूर खाएं या सूखा खजूर, जानकर आपको भी होगी हैरानी

थायरॉइड होने के अन्य कारण

इन रोगों के कारण भी थायरॉइड की बीमारी हो सकती हैः-

हाशिमोटो रोग (Hashimoto ' sdisease)

यह रोग थायरॉइड ग्रंथि के किसी एक भाग को निक्रिय बना देता है।

थायरॉइड ग्रंथि में सूजन ( Thyroiditis )

यह थायरॉइड ग्रंथि में सूजन आने के कारण होता है। शुरुआत में इसमें थाइरॉइड हार्मोन का अधिक उत्पादन होता है, और बाद में इसमें कमी आ जाती है। इस कारण हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyrodism)हो जाता है। कईं बार यह महिलाओं में गर्भावस्था के बाद देखा जाता है।

आयोडीन की कमी

आहार में आयोडिनकी कमी के कारण हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyrodism)हो जाता है, इसलिए आयोडिनयुक्त नमक का इस्तेमाल करना चाहिए।

ग्रेव्स रोग ( Graves - disease )

ग्रेव्स रोग व्यस्क लोगों में हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyrodism)होने का मुख्य कारण है। इस रोग में शरीर की रोग प्रतिक्षा प्रणाली ऐसे एंटीबायोडिट्स (Antibodies)का उत्पादन करने लगती है जोTSHको बढ़ाती है। यह अनुवांशिक बीमारी है, जो पीढ़ी दर पीढ़ी चलती है।

गण्डमाला रोग (Goitre)

यह बीमारी घेंघा रोग के कारण भी हो सकती है।

विटामिन बी12 (VitaminB 12)

विटामिन बी12के कारण भी हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyrodism)हो सकता है।

थायरॉइड रोग का घरेलू इलाज करने के उपाय

आप थायरॉइड को ठीक करने के लिए ये घरेलू उपचार आजमा सकते हैंः-

लौकी के उपयोग से थायरॉइड में फायदा

खाली पेट लौकी का जूस पीने सेथायराइड रोग में उत्तम काम करता है। यह रोग को शांत करता है।

मुलेठी से थायरॉइड का इलाज

मुलेठी का सेवन करें। मुलेठी में पाया जाने वाला प्रमुख घटक ट्रीटरपेनोइड ग्लाइसेरीथेनिक एसिड थायरॉइड कैंसर सेल्स (ThyroidCancerCells)को बढ़ने से रोकता है।

अश्वगंधा चूर्ण के सेवन से थायरॉइड का इलाज

रात को सोते समय एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण गाय के गुनगुने दूध के साथ लें। इसकी पत्तियों या जड़ को भी पानी में उबालकर पी सकते हैं। अश्वगंधा हार्मोन्स के असंतुलन को दूर करता है।

थायरॉइड का घरेलू उपचार तुलसी से

दो चम्मच तुलसी के रस में आधा चम्मच ऐलोवेरा जूस मिला कर सेवन करें। इससे थायरॉइड रोग ठीक होता है।

थायरॉइड का घरेलू इलाज हरी धनिया से

हरी धनिया को पीसकर एक गिलास पानी में घोल कर पिएं। इससे थायरॉइड रोग से आराम मिलेगा।

शरीर की सभी कमजोरियों को दूर कर देती है ये 4 चीजें, पहली और दूसरी तो रोज नाश्ते में खाएं

त्रिफला चूर्णसे थायरॉइड से लाभ

प्रतिदिन एक चम्मच त्रिफला चूर्ण का सेवन करें। यह बहुत फायदेमंद होता है।

हल्दी और दूध से थायरॉइड की बीमारी का इलाज

प्रतिदिन दूध में हल्दी पका कर पीने से भीथायराइड का उपचार (thyroid ka gharelu ilaj) होता है।

काली मिर्च के सेवन से थायरॉइड का उपचार

थायराइड के घरेलू उपचार (thyroid ka gharelu ilaj)में नियमित रूप से भोजन में थोड़ी मात्रा में काली मिर्च का सेवन करें।

थायरॉइड के दौरान आपका खान-पान

थायरॉइड की परेशानी के दौरान आपका खान-पान ऐसा होना चाहिएः-

  • थायरॉइड रोग में कम वसा वाले आहार का सेवन करें।
  • ज्यादा से ज्यादा फलों एवं सब्जियों को भोजन में शामिल करें।
  • विशेषकर हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें। इनमें उचित मात्रा में आयरन होता है, जो थायरॉइड के रोगियों के लिए फायदेमंद है।
  • पोषक तत्वों से भरपूर भोजन करें। मिनरल्स और विटामिन से युक्त भोजन लेने से थायरॉइड कन्ट्रोल करने में मदद मिलती है।
  • आयोडीन युक्त आहार का सेवन करें।
  • नट्स जैसेबादाम,काजूऔरसूरजमुखीके बीजों का अधिक सेवन करें। इनमें कॉपर की पर्याप्त मात्रा होती है, जो थायरॉइड में फायदेमंद होता है।
  • थायराइड के घरेलू उपचार के अंतगर्तदूध औरदहीका अधिक सेवन करना चाहिए।
  • थायराइड के घरेलू इलाज के लिए आपविटामिन-ए का अधिक सेवन करें। इसके लिए आपगाजरखा सकते हैं।
  • साबुत अनाज का सेवन करें। इसमें फाइबर, प्रोटीन और विटामिन्स भरपूर मात्रा में होते हैं।
  • मुलेठीमें मौजूद तत्व थायरॉइड ग्रन्थि को संतुलित बनाते हैं। यह थायरॉइड में कैंसरको बढ़ने से भी रोकता है।
  • गेहूँऔरज्वारका सेवन करें।

ये 5 मिनट की एक्सरसाइज कर देगी आपके पेट को अंदर,क्लिक कर जाने

थायरॉइड के दौरान जीवनशैली

थायराइड के दौरानजीवनशैली में ये सब बदलाव करना चाहिएः-

  • तनाव मुक्त जीवन जीने की कोशिश करें।
  • योगासन करें।

थायरॉइड के लिए परहेज

  • जंक फूड एवं प्रिजरवेटिव युक्त आहार को नहीं खाएं।
  • धूम्रपान, एल्कोहल आदि नशीले पदार्थों से बचें।

अधिक लाभ के लिए किसी चिकित्सक से जरूर सलाह लें।

For more news and updates please click here

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Latest News1
Top