Saturday, 24 Feb, 9.45 am Live News

होम
मोती की खेती से करोड़ों कमाता है ये शख्स, बातों-बातों में बता गया.. घर पर कैसे बनता है ये रत्न

सत्यनारायण बताते हैं, "मैं खाली टाइम में यूट्यूब वीडियोज देखता था। एक दिन मैंने मोती बनने की प्रॉसेस देखी। मुझे वो काफी इंटरेस्टिंग लगी। मैंने अपनी वाइफ सजना को इसके बारे में बताया और उसने तुरंत हामी भर दी।" "मैंने ढाई साल पहले मोती की खेती शुरू की थी। प्रॉसेस बहुत आसान था, लेकिन इसमें सबसे ज्यादा जरूरत धैर्य की थी। अगर आपके अंदर पेशेंस नहीं है, तो आप पूरा प्रॉसेस जानने के बावजूद इसका फायदा नहीं उठा पाएंगे।"


सत्यनारायण यादव बताते हैं, "मैंने ओडिशा में मोती फार्मिंग की 15 दिन की ट्रेनिंग ली थी। ट्रेनिंग के बाद मैंने 10 हजार से इस काम की शुरुआत की थी। यदि आपका टारगेट 500-600 मोतियों का है, तो उसके लिए 25-30 हजार रुपए का इनवेस्टमेंट लगता है।"


"इस प्रॉसेस में 8-10 महीने लगते हैं। इस इंतजार के बाद पैदा हुए 1-1 मोती की कीमत 300 रुपए होती है। यानी कि अगर पहली बार में आपने 500 मोती निकाले, तो 1.5 लाख रुपए की आमदनी पक्की। एक बार में 1.2 लाख का प्रॉफिट होता है।" सत्यनारायण यादव के पास मध्यप्रदेश, जम्मू, हरियाणा, उत्तरप्रदेश, पंजाब, आसाम आदि राज्यों के लोग ट्रेनिंग के लिए आते है। वे अब तक 150 लोगों को ट्रेनिंग दे चुके हैं।

इस तरह की जाती है खेती
सत्यनारायण ने बताया कि मोती पालन के लिए पानी का हॉज बनाया जाता है। इसमें केरल, गुजरात, हरिद्वार जैसी जगहों से सीप लाकर यहां डाली जाती हैं। सीपों की सर्जरी के लिए सर्जिकल टूल्स की जरूरत होती है। हर एक सीप में चीरा लगाकर इसके भीतर 4 से 6 मिमी व्यास वाले साधारण और डिजाइनदार बीड डाले जाते हैं। फिर सीप को बंद किया जाता है।

लगभग 8 से 10 माह के बाद सीप को चीर कर मोती निकाल लिया जाता है। जिंदा सीप से मोती प्राप्त किया जाता है। मोती हासिल करने के बाद सीपों से गमले, गुलदस्ते, मुख्य द्वार पर लटकाने वाली सजावटी झूमर, स्टैंड, डिजाइनिंग दीपक आदि तैयार किए जाते हैं। इसके कवर से पाउडर तैयार किया जाता है जिसका इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाओं में होता है।


सत्यनारायण यादव बताते हैं, "मोतियों को बनाने के लिए सीपी के अंदर रेत का कण डाला जाता है। मैंने उनके अंदर देवी-देवताओं की डिजाइन डालने का एक्सपेरिमेंट किया था। सीपी ने ओम की डिजाइन के आसपास मोती बना दिया। यह मोती खरीददारों को ज्यादा अटरैक्ट करता है।" "अच्छी क्वालिटी का मोती बनाने के लिए 18-20 महीने का वक्त लगता है। वह मोती ज्यादा बड़ा और चमकदार होता है। उसकी कीमत भी नॉर्मल मोती से दोगुना होती है।"

Dailyhunt
Top