Saturday, 11 Jul, 4.41 pm News24

होम
चीन के थ्री गोरजेस बांध का ताइवान तक खौफ

नई दिल्‍ली: ताइवान डेल्टा इलेक्ट्रॉनिक्स ने वुहान के चीनी शहर में निवेश करने की कभी योजना नहीं बनाई थी, क्योंकि कंपनी के संस्थापक के अनुसार वह थ्री गोरजेस डैम की सुरक्षा को लेकर चिंतित था। चीन के बड़े हिस्से में मूसलाधार बारिश और व्यापक बाढ़ आई है, जिससे चीनी विशेषज्ञों ने सवाल उठाया है कि क्‍या दुनिया की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग परियोजना के रूप में माना जाने वाले बांध मौसम के हमले का सामना करने में सक्षम होगा।

थ्री गोरजेस बांध ने डराया
हाल ही में ताइवान में एक मंच पर बोलते हुए डेल्टा के संस्थापक ब्रूस चेंग ने कहा कि वह हाल ही में चीन में हुए घटनाक्रमों को देख रहे हैं। लिबर्टी टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, उनकी कंपनी को वुहान क्षेत्र में निवेश करने के लिए बार-बार कहा जाता है, लेकिन हमने हमेशा इनकार कर दिया है और इसका एक कारण था थ्री गोरजेस बांध की स्थिरता। उन्‍होंने कहा, यह उस समय की स्थिति के लिए सही तरीका तैयार किया गया हो सकता है, लेकिन जलवायु परिवर्तन ने मौसम को और अधिक खतरनाक बना दिया है। उन्‍हें इस बारे में संदेह था कि क्या बांध ग्लोबल वार्मिंग के कारण मौसम का सामना कर सकता है।

सुरक्षित नहीं बांध
इससे पहले रेडियो फ्री एशिया (RFA) ने Jiangsu स्थित चीनी मानवाधिकार कार्यकर्ता झांग जियानपिंग का हवाला देते हुए कहा कि जिन लोगों ने बांध के निर्माण का विरोध किया था, वे सही थे। जब से इसे बनाया गया था, इसने कभी बाढ़ या सूखे को रोकने में कोई भूमिका नहीं निभाई है।' उन्होंने कहा कि इस समय देश के इलाकों में भारी बारिश हुआ करती थी और वे इससे भारी थी, लेकिन हम कभी भी बाढ़ की चपेट में नहीं आए थे।

रिपोर्ट में बताया गया था कि बांध को बनाने के लिए खराब सामग्री का प्रयोग किया गया हे, जिस कारण यह कभी भी ढह सकता है। हालांकि हर बार की तरह चीन ने इन आरोपों का खंड़न करते हुए बांध को मजबूत बताया था।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: News24 Hindi
Top