Thursday, 17 Sep, 12.06 pm News24

होम
हुआ बड़ा खुलासा, पाकिस्‍तान के साथ मिलकर भारत से युद्ध लड़ने की तैयारी में चीन

नई दिल्‍ली: चीनी सरकार के प्रवक्ता ग्लोबल टाइम्स ने इसके बारे में एक लेख प्रकाशित किया है। पाकिस्तान और चीन के साथ भारत के चल रहे तनावों का जिक्र करते हुए कहा कि भारत के लिए दो मोर्चों पर युद्ध जीतना असंभव था।

अखबार लिखता है कि पाकिस्तान ने सैन्य LOC पर भारत पर संघर्ष विराम के उल्लंघन का आरोप लगाया है। अलगाववादियों द्वारा कश्मीर में ताकत हासिल करने के डर से भारत ने अगस्त 2019 में कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त किया, जिसके बाद से दोनों देशों के बीच संबंध खराब हो गए हैं। नई दिल्ली को लगता है कि इलाके के सभी पाकिस्तानी सभी आतंकवादी हैं। इस कारण से भारत ने कश्मीर में बहुत आक्रामक नीति अपनाई है।

ग्लोबल टाइम्स के अनुसार, अगस्त 2019 में भारत की कार्रवाई के बावजूद पाकिस्तान ने संयम बरता। पाकिस्तान भारत की तुलना में सैन्य रूप से अधिक मजबूत नहीं है, लेकिन कश्मीर पाकिस्तान के लिए एक संवेदनशील मुद्दा रहा है। अगर पाकिस्तान सरकार ने कश्मीर पर अपनी पकड़ मजबूत नहीं की, तो इसकी लोकप्रियता अपने ही देश में घट जाएगी। यही कारण है कि पाकिस्तान भारत के हर आक्रामक कदम की कड़ी आलोचना करता है और जरूरत पड़ने पर इसके खिलाफ कार्रवाई करता है।

ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि चीन और पाकिस्तान के विवाद के अलावा, भारत का नेपाल के साथ भी सीमा विवाद है। भारतीय सेना का दावा है कि वह ढाई मोर्चे के युद्ध के लिए पूरी तरह से तैयार है। ढाई मोर्चे का मतलब चीन, पाकिस्तान और उसकी आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा है। लेकिन यह एक सच्चाई है कि भारतीय सेना इस तरह की चुनौती का सामना करने में सक्षम नहीं है। कई मोर्चों पर लड़ना किसी भी देश के लिए एक गंभीर चुनौती है।

ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक भारत अपनी सैन्य क्षमताओं को बढ़ाने के लिए रूस और पश्चिम से अत्याधुनिक हथियार खरीद रहा है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय का समर्थन मांग रहा है। पिछले कुछ वर्षों में भारत ने अमेरिका की ओर झुकाव देखा है। संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके पड़ोसियों के साथ सैन्य सहयोग बढ़ाने के अलावा, भारत ने कई सैन्य समझौतों पर भी हस्ताक्षर किए हैं। हालांकि, इन सभी उपायों के बावजूद भारत एक ही समय में चीन और पाकिस्तान के साथ युद्ध नहीं लड़ सकता है।

एलएसी के खिलाफ भड़काऊ कार्रवाई करने वाले चीनी मीडिया ने भारत पर क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए खतरा होने का आरोप लगाया है। लेख यह भी बताता है कि यदि भारत वास्तव में मजबूत होना चाहता है, तो उसे अपने पड़ोसियों के साथ संबंधों में सुधार करने की आवश्यकता है। भारत दक्षिण एशिया में सर्वोच्च होना चाहता है और चीन को इन देशों में अपने प्रभाव में दखल देता है। भारत को अपनी मानसिकता बदलनी चाहिए। क्योंकि चीन और पाकिस्तान मित्र देश हैं।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: News24 Hindi
Top