Thursday, 26 Nov, 10.19 am News24

होम
इजरायल ने 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले के पीड़ितों को किया याद

नई दिल्‍ली: 12 साल पहले आज ही के दिन 2008 में पाकिस्तानी आतंकवादियों के एक समूह ने मुंबई शहर में समुद्री रास्ते से प्रवेश किया था और विदेशियों सहित 160 से अधिक लोगों की हत्या कर दी थी। 26/11 के आतंकवादी हमलों के पीड़ितों को सम्मान देने के लिए इजरायल ने समारोह आयोजित किया और मांग की कि इस हमले के साजिशकर्ताओं को कड़ी सजा दी जाए।

'शांतिपूर्ण देशों को एक साथ आना चाहिए'

इजरायल और भारतीय छात्रों ने येरूशलम, रेहोवोट, तेल अवीव, बेर्शेवा और इलियट में समारोह आयोजित किए। जूम पर एक वीडियो समारोह भी गुरुवार को 8 बजे इज़राइल समय (11:30 PM IST) के लिए इस आयोजन में हिस्सा लेने के लिए सैकड़ों लोगों ने पंजीकरण कराया है।

आइजैक सोलोमन ने कहा कि इजरायल हर उस देश का विरोध करता है, जो आतंकवादियों को वित्तीय और रसद सहायता प्रदान करता है। शांतिपूर्ण देशों को राजनयिक और आर्थिक रूप से उन देशों का बहिष्कार करना चाहिए जो आतंकवाद का समर्थन करते हैं। यह हमारे लिए गर्व की बात है कि इजरायलियों ने भारत को एक शांतिपूर्ण देश के रूप में हमारे दोस्त के रूप में रखा है। हम प्रार्थना करते हैं कि हमारी दोस्ती मजबूत हो।

पाकिस्तान स्थित लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के दस आतंकवादियों ने मुंबई में चार दिनों तक हमला किया था। चबाड हाउस में छह यहूदियों और नौ आतंकवादियों सहित कम से कम 166 लोग मारे गए। 26 नवंबर 2008 को शुरू हुए हमलों में 300 से अधिक लोग घायल हो गए।

'हमें उनकी धरती पर लड़ाई लड़नी होगी'

इज़राइल के तेलंगाना एसोसिएशन ने 26/11 के पीड़ितों को सम्मान देने के लिए एक अंतर-समारोह आयोजित किया। एक यहूदी रब्बी, एक हिंदू पुजारी, एक ईसाई पादरी और एक सिख पुजारी ने उन लोगों की याद में प्रार्थना की जो हमलों में मारे गए। एसोसिएशन के अध्यक्ष रवि सोमा ने कहा, "हम शांति में विश्वास करते हैं, लेकिन आतंक के आगे नहीं झुकना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तहत जीरो टॉलरेंस की हमारी नीति एक स्वागत योग्य बदलाव है।"

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: News24 Hindi
Top