Saturday, 31 Oct, 10.35 am News24

होम
पुलवामा हमले को लेकर पीएम का विपक्ष पर निशाना, कुछ दलों को भारत के बेटों की शहादत का दुख नहीं

नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुलवामा हमले को लेकर पाकिस्तान की संसद में हुए कबूलनामे को लेकर विपक्ष पर निशाना साधा। पिछले साल पुलवामा हमले पर कथित रुख के लिए विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए उन्‍होंने कहा कि जब हमले में 40 से अधिक अर्धसैनिक बल के जवान शहीद हुए तो इन दलों को दुख नहीं हुआ।

प्रधानमंत्री ने कहा, "आज जब मैं अधिकारियों की परेड देख रहा था, मेरे दिमाग में एक छवि उभर आई... यह छवि पुलवामा हमले की थी। देश कभी नहीं भूल सकता है कि जब भारत अपने बेटों की मौत का शोक मना रहा था और कुछ लोग उस दुःख का हिस्सा नहीं थे। वे पुलवामा हमले में भी फायदे की तलाश में थे।'' उन्होंने कहा कि देश कभी नहीं भूल सकता कि उस समय किस तरह की टिप्पणी की गई थी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश भूल नहीं सकता कि तब कैसी-कैसी बातें कहीं गईं, कैसे-कैसे बयान दिए गए। देश भूल नहीं सकता कि जब देश पर इतना बड़ा घाव लगा था, तब स्वार्थ और अहंकार से भरी भद्दी राजनीति कितने चरम पर थी।

प्रधानमंत्री मोदी बोले, पिछले दिनों पड़ोसी देश से जो खबरें आईं हैं, जिस प्रकार वहां की संसद में सत्य स्वीकारा गया है, उसने इन लोगों के असली चेहरों को देश के सामने ला दिया है। अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए, ये लोग किस हद तक जा सकते हैं। पुलवामा हमले के बाद की गई राजनीति, इसका बड़ा उदाहरण है।

प्रधानमंत्री मोदी ने राजनीतिक दलों से आग्रह करते हुए कहा, देश की सुरक्षा के हित में, हमारे सुरक्षाबलों के मनोबल के लिए, कृपा करके ऐसी राजनीति न करें, ऐसी चीजों से बचें। अपने स्वार्थ के लिए, जाने-अनजाने आप देशविरोधी ताकतों के हाथों में खेलकर, न आप देश का हित कर पाएंगे और न ही अपने दल का। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमें ये हमेशा याद रखना है कि हम सभी के लिए सर्वोच्च हित- देशहित है। जब हम सबका हित सोचेंगे, तभी हमारी भी प्रगति होगी, उन्नति होगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय एकता और अखंडता के अग्रदूत लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि आज हम 130 करोड़ देशवासी मिलकर एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण कर रहे हैं, जो सशक्त भी हो और सक्षम भी हो। जिसमें समानता भी हो, और संभावनाएं भी हों। आत्मनिर्भर देश ही अपनी प्रगति के साथ साथ अपनी सुरक्षा के लिए भी आश्वस्त रह सकता है। इसलिए, आज देश रक्षा के क्षेत्र में भी आत्मनिर्भर बनने की ओर बढ़ रहा है। इतना ही नहीं, सीमाओं पर भी भारत की नजर और नजरिया अब बदल गए हैं।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: News24 Hindi
Top