Monday, 08 Jan, 5.39 am पल-पल इंडिया

मुख्‍य समाचार
बधिर बच्चों ने अपने डांस के किया अचंभित

नवीन कुमार, मुंबई. भले ही वे सुन नहीं पाते हों लेकिन उनकी यही कमी उन्हें इस अक्षमता से लड़ने में सहायता करती है. यह शहर एक बार फिर इन सुनने से लाचार बच्चों के डांस प्रतियोगिता का साक्षी बना है. इस प्रतियोगिता में मुंबई के 100 से अधिक बधिर बच्चों ने अपनी कड़ी मेहनत का प्रदर्शन किया है. उनके डांस को देखकर हर कोई अचंभित था. बीते शनिवार को बधिर बच्चों का इंटर स्कूल डांस प्रतियोगिता आयोजित किया गया. यह कार्यक्रम जोश फाउंडेशन की ओर से आयोजित किया गया जो पिछले दस सालों से बधिर बच्चों की मेहनत में उनकी सहायता कर रहा है. यह पहली बार नहीं है जब जोश ने भारतीय संस्कृति की विलक्षणता को बताने वाली संगीतमय कृति का आयोजन किया है. इस तरह के आयोजन का यह लगातार छठवां साल है जिसमें बधिर बच्चों के कुछ खास स्कूल हिस्सा लेते हैं. देवांगी दलाल जो एक ऑडियोलॉजिस्ट-स्पीच थैरेपिस्ट हैं और जोश के दो संस्थापकों में से एक हैं, के अनुसार यह नृत्य प्रतियोगिता वर्ष 2018 के लिए डब्ल्यूएचओ की थीम `हियर द फ्यूचर' के अनुरूप है. इस नृत्य प्रतियोगिता में 100 से ज्यादा विद्यार्थियों के भाग लिया और यह प्रतियोगिता विले पार्ले (पश्चिम) के भाईदास सभागार में 6 जनवरी 2018 को सुबह 10 बजे से दोपहर एक बजे तक चला. जानी मानी मराठी अभिनेत्री सई तम्हणकर इन बधिर बच्चों की उन्नति से इतनी प्रभावित हुईं कि उन्होंने सारा थडाणी नामक एक बधिर व्यक्ति की सच्ची कहानी पर आधारित एक फिल्म में अभिनय करने को तैयार हुईं. सारा बॉलीवुड के कई कलाकारों की मेकअप आर्टिस्ट हैं. सई ने इन बधिर बच्चों की हर संभव सहायता करने का निर्णय लिया है. `उन्हें सहानुभूति नहीं, उन्हें प्रोत्साहन चाहिए' यह संदेश सई अब फैला रही हैं. वे इस मौके पर मुख्य अतिथि थीं और माया शाह एक्जीक्यूटिव डाइरेक्टर, इनवेंसिया हेल्थकेअर प्राइवेट लिमिटेड समारोह की विशिष्ट अतिथि थीं. डाक्टर जयंत गांधी, जोश फाउंडेशन के संस्थापक एवं मेंटर कहते हैं कि डब्ल्यूएचओ ने इस साल सुनने की कमजोरी के कारणों पर जोर दिया है और हम इस काम में उन्हें अपनी तरफ से सहयोग कर रहे हैं. इस वर्ष फाउंडेशन 21 डिजिटल हियरिंग एड्स बच्चों को प्रदान किया. इसके अलावा लकी ड्रॉ के जरिए पांच और बच्चों को हियरिंग एड दिए गए. देखकर ही विश्वास किया जा सकता है और इसीलिए 6 जनवरी का यह कार्यक्रम उपयुक्त मौका था बच्चों के इस भव्य शो को देखने का जिसमें बच्चे डांस मूवमेंट्स की नकल नहीं करते बल्कि हियरिंग एड के द्वारा म्यूजिक सुनकर डांस प्रस्तुत किए गए. इस मौके पर बच्चों की हौसला आफजाई के लिए पूनम पांडे, अली असगर, कुणिका सदानंद, संजय छैल और अनील मुरारका भी उपिस्थत थे.



Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Palpal India
Top