Friday, 30 Oct, 1.03 am पीपुल्स समाचार

भोपाल
गंदगी में रहने की आदत से भारत कोरोना से बेहतर लड़ पाया

नई दिल्ली। भले ही देश में 80 लाख से ज्यादा कोरोना मरीज हो चुके हैं और संक्रमित मरीजों के आंकड़े में दुनिया में दूसरे नंबर भारत हो, लेकिन इसके बाद भी भारत में अमेरिका समेत अन्य देशों के मुकाबले कोरोना से कम मौतें देखने को मिली हैं। अब इसके पीछे की एक बड़ी बजह सामने आई है। सेंटर फॉर साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआईआर) ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि गंदगी और कम गुणवत्ता वाले पानी की वजह से जिन देशों में हाईजीन का लेवल खराब है, वहां कोरोना से मौत का खतरा भी साफ-सुथरे देशों की तुलना में कम है। यह स्टडी ऐसे समय सामने आई है, जब हाल ही में अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत को गंदा बोला था। एक नए शोध से पता चला है कि जिन देशों में खराब साफ-सफाई के साथ कम गुणवत्ता वाले पानी का इस्तेमाल होता है, वहां पर कोविड-19 से मरने वालों का आंकड़ा उन अमीर देशों से कम है, जहां पर स्वच्छता के उच्च मापदंड हैं। स्टडी में कहा गया है कि गंदगी में रहने की आदत के चलते भारत अन्य देशों के मुकाबले कोरोना से बेहतर तरीके से लड़ पाया। मेड्रिक्सिव में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि जीवन में शुरुआती रोगजनकों के संपर्क में आने वाले लोग बाद में एलर्जी से होने वाली बीमारियों से बचे रहते हैं। इस थ्योरी को हाईजीन हाइपोथिसिस कहते हैं। हालांकि शोधकर्ताओं ने यह भी चेतावनी दी है कि इसका मतलब यह जरा भी नहीं है कि स्वच्छता की खराब स्थिति वांछनीय है।

1 नवंबर से रोजाना 15 हजार श्रद्धालु कर सकते हैं माता वैष्णो देवी के दर्शन

चीन से तनातनी के बीच भारतीय नौसेना किया एक और मिसाइल का सफल परीक्षण

भोपाल में मुसलमानों की रैली पर बाबा रामदेव नाराज, बोले- बार-बार एक ही संप्रदाय आग लगाने क्यों लग जाता?; सांसद प्रज्ञा ने कहा- गद्दारों की कमी नहीं

एक्ट्रेस उर्मिला मातोंडकर राज्यपाल कोटे से महाराष्ट्र विधान परिषद जाएंगी

राष्ट्रीय एकता दिवस: जाने 31 अक्टूबर को क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय एकता दिवस

कोरोना में ऐसी सजा: मुंबई में मास्क न पहनने वालों से एक घंटे तक सड़कों पर झाड़ू लगवाई, 200 रुपए स्पॉट फाइन लिया जाएगा

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Peoples Samachar
Top