Thursday, 29 Oct, 10.03 pm पीपुल्स समाचार

भोपाल
सिंधिया परिवार जनसेवक के पथ पर चलता है, कुर्सी के पथ पर नहीं : ज्योतिरादित्य

इंदौर। भाजपा नेता और रास सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गुरुवार को डकाच्या में आयोजित चुनावी सभा में कहा कि सिंधिया परिवार को कभी कुर्सी, नेम प्लेट या लाल बत्ती का मोह नहीं रहा। सिंधिया परिवार हमेशा जनसेवक के पथ पर चलता है, कुर्सी के पथ पर नहीं। उन्होंने 2018 में बनी कांग्रेस सरकार को लेकर कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि कमलनाथ ने 15 माह में प्रजातंत्र के मंदिर वल्लभ भवन को भ्रष्टाचार का अड्डा बना कर छोड़ दिया। उन्हें तो नोट की चिंंता रही, पर जब कुर्सी खिसकी तो अब जनता और वोट की चिंता हो गई। सभा के दौरान सिलावट ने मंच पर दंडवत प्रणाम करके जनता से आशीर्वाद मांगा। जो व्यक्ति खुद को भगवान समझे, उसके अहंकार को चूर करना है
सांवेर क्षेत्र में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने चौथी बार पहुंचकर भाजपा प्रत्याशी तुलसी सिलावट के समर्थन में जनसभा को संबोधित किया। तय समय से काफी विलंब से दोपहर करीब 3.20 बजे डकाच्या पहुंचे सिंधिया का मालवी पगड़ी पहनाकर स्वागत किया गया। सिंधिया ने कहा कि ये चुनाव प्रदेश की दिशा और दशा बदलेगा। वे बोले कि भाजपा में नारा लगता है, जय-जय सियाराम मगर कांग्रेस में नारा लगता है, जय-जय कमलनाथ। जो व्यक्ति खुद को भगवान के समान समझे, ऐसे व्यक्ति के अहंकार को 3 तारीख को चूर-चूर करना है।
सिंधिया ने कहा कि 2018 के चुनाव में शिवराज सिंह चौहान और हम आमने-सामने थे, मगर हमारा एक ही लक्ष्य प्रदेश का विकास, प्रगति और किसानों की उन्नति थी। आज हम मिलकर एक और एक ग्यारह हो गए हैं। उन्होंने कहा कि 15 माह में कमलनाथ ने वल्लभ भवन से ट्रांसफर उद्योग शुरू कर दिया था। बोली लगती थी। भ्रष्टाचार मे लिप्त प्रदेश सरकार के उस समय के कैबिनेट मंत्री उमंग सिंघार ने कांग्रेस पार्टी की राष्टय अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी भी लिखी थी।
सीएम के ऊपर सुपर सीएम
सिंधिया ने सभा में कहा किकांग्रेस की सरकार के समय सीएम एक था, लेकिन उसके ऊपर सुपर सीएम था। चुनाव आता है तो छोटा भाई और बड़ा भाई की जोड़ी आती है। एक पर्दे के पीछे रहता है। चुनाव बाद सामने आते हैं। पीछे से कठपुतली की डोर चलाई जाती है। कांग्रेस नेताओं ने भ्रष्टाचार का इतिहास बनाया। कमलनाथ ने इमरती देवी के बारे में जिन शब्दों का उपयोग किया, वह महिलाओं का अपमान है। दलितों का अपमान है, आज बाबा साहब जीवित होते तो मुंह तोड़ जवाब देते। सभा का संचालन राजेश सोनकर ने किया। सभा में सांसद शंकर लालवानी. सुदर्शन गुप्ता, सावन सोनकर आदि मौजूद थे। आभार पूर्व सरपंच रमेश पटेल ने माना।

इंदौर में नवविवाहिता की हत्या का मामला : शादी के दूसरे दिन से होने लगे थे पति-पत्नी में विवाद

चुनावी सभा में कलेक्टर पर टिप्पणी के मामले में कांग्रेस प्रत्याशी गुड्डू को नोटिस

पूरे प्रदेश के विकास में पैसों की कमी नहीं आने देंगे : शिवराज

इंदौर में खरगोन का लड़का और देवास की लड़की ने जान दी; पेड़ पर दोनों अलग-अलग फंदे से लटके थे

इंदौर के गंगवाल फूड्स के 11 स्थानों पर जीएसटी ने मारा छापा, कई दस्तावेज और रिकॉर्ड जब्त

इंदौर में केटरर ने तालाब में कूदकर जान दी, सुसाइड नोट में पत्नी, साली और सास से परेशान होना बताया

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Peoples Samachar
Top