Thursday, 21 Jan, 12.22 pm पुलिसनामा

होम
अब अन्ना हजारे ने कहा 'लगाव रे वो वीडियो', मोदी सरकार के खिलाफ अनशन में करेंगे इस हथियार का इस्तेमाल

नई दिल्ली : ऑनलाइन टीम – सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने एक बार फिर किसानों के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखा है। उन्होंने लिखा कि किसानों को फसल की लागत से 50 फीसदी अधिक मूल्य मिलना चाहिए लेकिन पूर्व में इस संदर्भ में सरकार द्वारा दिए गए आश्वासनों के बावजूद ऐसा नहीं […]

The post अब अन्ना हजारे ने कहा ‘लगाव रे वो वीडियो’, मोदी सरकार के खिलाफ अनशन में करेंगे इस हथियार का इस्तेमाल appeared first on पोलीसनामा (Policenama).

नई दिल्ली : ऑनलाइन टीम – सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने एक बार फिर किसानों के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखा है। उन्होंने लिखा कि किसानों को फसल की लागत से 50 फीसदी अधिक मूल्य मिलना चाहिए लेकिन पूर्व में इस संदर्भ में सरकार द्वारा दिए गए आश्वासनों के बावजूद ऐसा नहीं हो रहा है। इस मुद्दे पर अब तक पांच बार आपको पत्र भेजा लेकिन किसी का जवाब नहीं मिला। इस वजह से जनवरी के अंत में रामलीला मैदान में भूख हड़ताल शुरू करने का फैसला लिया है।

अन्ना ने कहा कि 2011 में जब मैं उपवास में बैठा था। उस वक़्त बीजेपी ने आंदोलन की सराहना की थी। लेकिन आज जब मैंने किसान संबंधित पत्र सरकार को भेजा कर रहा था। सरकार मेरे खत का जवाब नहीं दे रही है। इस वजह से अब मैं भाजपा नेताओं की भूमिका और किसानों के प्रति सराहना का वीडियो जनता को दिखाया जाएगा। ‘लगाव रे वो वीडियो’ के माध्यम से अन्ना आज से जनजागरण अभियान शुरू करेंगे।

खत में अन्ना ने कहा कि दिल्ली के रामलीला मैदान में सात दिन तक चले उपवास के बाद आपकी सरकार ने 29 मार्च 2018 को लिखित आश्वासन दिया था लेकिन इसे अभी तक पूरा नहीं किया गया है। आपकी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को स्वीकार किया। यदि इन्हें स्वीकार किया तो इनका पालन भी जरूरी है। हजारे ने कहा कि उन्होंने किसानों की मांगों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कई पत्र लिखे हैं। हालांकि, प्रधानमंत्री मोदी ने अभी तक किसी भी पत्र का जवाब नहीं दिया है। केंद्र सरकार किसानों के मुद्दे पर उदासीन है और उन्हें धोखा दे रही है।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: PoliceNama Hindi
Top