Friday, 20 Mar, 7.41 pm रॉयल बुलेटिन

ताजा खबर
कोरोना वायरस फैलने से राेकने में करें सहयोग..प्रधानमंत्री की अपील के बावजूद यूपी सरकार कोरोना संकट पर गम्भीर नहीं: अखिलेश

लखनऊ - समाजवादी पार्टी(सपा)अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कोरोना वायरस को विश्वव्यापी विपदा बताते हुये कहा कि इस रोग को फैलने से रोकने में हम सबको भी अपनी भूमिका निभानी होगी।

यादव ने शुक्रवार को यहां जारी बयान में कहा कि कोरोना संकट के समय हमें धैर्य और संयम से काम लेते हुए सतर्क और सजग रहना होगा। कोरोना जैसी विश्वव्यापी विपदा का इलाज करना डाक्टरों का काम है। उसे फैलने से रोकने में हम सबको भी अपनी भूमिका निभानी होगी।

उन्होंने सपा कार्यकर्ताओं से अपील की है कि इस काम में लोगों की मदद करें । संक्रमण का संदेह हो तो कार्यकर्ता डाक्टरी मदद दें। जिनके पास खाने की दिक्कत हो उनकी तत्काल यथासंभव मदद में देरी न करें।

यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री जी की अपील के बावजूद उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार कोरोना संकट पर न तो गम्भीर दिख रही है और नहीं वह संवेदनशील है। भाजपा सरकार कोरोना के प्रति जनसामान्य में जागरूकता जगाने और अस्पतालों की व्यवस्था सुधारने के बजाय विज्ञापनों और अपने झूठे प्रचार पर अंधाधुंध खर्च करने में व्यस्त है। इस संकट से बचाव के लिए जो सुरक्षात्मक उपाय करने चाहिए उनमें भी लापरवाही बरती जा रही है।

उन्होंने कहा कि अस्पतालों में कोरोना के नियंत्रण की पर्याप्त व्यवस्थाएं नहीं है। ये स्थिति तो राजधानी की है। मास्क और सैनीटाइजर भी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं है। सरकार के ओहदेदार पार्टियों में दावत उड़ा रहे हैं।सपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री जी की अपील के बावजूद हाल यह है कि एक प्राइवेट हाईप्रोफाइल रात्रि पार्टी में बालीवुड की एक गायिका को सुनने के लिए भाजपा के बड़े नेता, मंत्री तथा शीर्ष अधिकारी भी पहुंच गए। इनके भाजपा सरकार के शीर्ष नेतृत्व तक से सम्पर्क है। पार्टी में शामिल कई लोग संक्रमित पाए गए है। ऐसे में कल्पना की जा सकती है कि यह मर्ज कहां तक जाएगा।

उन्होंने कहा कि बालीवुड गायिका कनिका कपूर जिस पार्टी में थी उसमें 100 से ज्यादा लोग थे। इसमें एक पूर्व मुख्यमंत्री, सांसद, शीर्ष अधिकारी तथा प्रदेश के स्वास्थ्यमंत्री भी शामिल थे। ऐसी कई हाई प्रोफाइल पार्टियों में कनिका कपूर गई थी। जाहिर है जिस कोरोना संकट की दुनिया भर में दहशत है उसके प्रति प्रदेश के जिम्मेदार लोगों का रवैया कितना निम्नस्तरीय और निंदनीय है।

यादव ने कहा है कि कोरोना संक्रमण की गम्भीर स्थिति को देखते हुए सरकार को मेडिकल कालेज और सार्वजनिक खाद्य वितरण प्रणाली के लिए पर्याप्त फण्ड तत्काल जारी करना चाहिए। दवाइयां मुफ्त हों और दिहाड़ी मजदूरों को संकट काल तक रोजमर्रा का खर्च दिया जाना चाहिए। गरीब लोगों के लिए शासन-प्रशासन द्वारा मुफ्त भोजन, इलाज की सुविधा मिलनी चाहिए। सरकार को संक्रमण के टेस्ट सेंटर बढ़ाने चाहिए।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Royal Bulletin
Top