Wednesday, 28 Feb, 10.04 am

विश्व
भारत-चीन संबंध पर पैनल चर्चा की मेजबानी करेगा इंडिया ग्लोबल, ​जानिए इसके बारे में !

भारत एवं चीन के बेहतर संबंधों के अध्ययन करने के लिए गठित इंडिया ग्लोबल सेंटर फॉर चाइनीज स्टडीज (आईजीसीसीएस) द्वारा 28 फरवरी को दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल में एक बैठक एवं भारत -चीन के बेहतर संबंध व समझ विषय पर एक पर्चिचा का आयोजन किया जाएगा। पर्चिचा में भारत -चीन संबंध को जानने वाले बुद्धिजीवी एवं विचारक हिस्सा लेंगे। ग्लोबल इंडिया सेंटर फॉर चाइनीज स्ट्डीज के गठन का उद्देश्य चीन के साथ भारत के रिश्ते को और बेहतर बनाने के बारे में अधिक जानने-समझने के लिए अध्ययन करना है। इस बात की जानकारी इंडिया ग्लोबल सेंटर फॉर चाइनीज स्ट्डीज के निदेशक प्रसून शर्मा ने दी।

इस पैनल चर्चा के संबंध में आईजीसीसीएस के निदेशक प्रसून शर्मा ने बताया कि भारत-चीन और दुनिया में निरंतर और टिकाऊ विकास के लिए गुणवत्ता के परिणाम, शोध और नवीन विचारों के निर्माण के लिए दोनों देशों को एक विशिष्टए गुणवत्ता वाले उत्पादकों के लिए विश्व स्तर के थिंक टैंक बनना है।

इंडिया ग्लोबल के संयोजक डॉ. निखिल अग्रवाल ने कहा कि भारत और चीन, एक साथ दुनिया की आबादी का लगभग 40 फीसदी का प्रतिनिधित्व करते हैं। दोनों के अपने हजारों वर्षो के इतिहास के साथ पुरानी अर्थव्यवस्थाएं हैं। हालांकि, दोनों देशों के बीच सामाजिक संरचनाओं और साझा आध्यात्मिक विश्वास जैसी समानताएं हैं लेकिन जब बात आर्थिक-राजनीतिक व्यवस्था की आती है तो दोनों दो छोर पर खड़े नजर आते हैं। उन्होंने बताया कि करीब आधी शताब्दी में भारत का चीन के साथ संबंध बदल रहा है। 'भाई' से दुश्मन बनने और अब सबसे बड़े व्यापारिक भागीदार होने से। इस समय चीन के प्रति भारत की समझ बहुत ही सीमित है, खासकर पश्चिमी देशों जैसे- अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम की तुलना में।

आईजीसीसीएस के मीडिया हेड रवींद्र झा ने बताया कि पैनल चर्चा में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से संबद्ध प्रकाशन 'ऑर्गनाईजर' के संपादक प्रफुल्ल प्रदीप केतकर, जर्मनी में भारत के पूर्व राजदूत गुरजीत सिंह, एचएसएस के समन्वयक डॉ राम वैद्य, सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील एवं भाजपा प्रवक्ता अमन सिन्हा, बिड़ला इंस्टीट्यूट के निदेशक डॉ. हरिवंश चतुवेर्दी, एचएसआईआईडीसी के निदेशक और पश्चिमी दिल्ली जिला भाजपा के उपाध्यक्ष अतुल मुखी, आईएफएस ए.अजय कुमार, अंतर्राष्ट्रीय सोलर अलायंस सचिवालय, विदेश मंत्रालय, नई दिल्ली के निदेशक जैसे गणमान्य व्यक्ति होंगे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

Dailyhunt
Top