Monday, 16 Oct, 11.05 am समाचार नामा

समाचार
भारत में 20 करोड़ लोग हर दिन भूखे पेट सोने के लिए मजबूर

हर साल 16 साल के अक्टूबर के दिन पूरी दुनिया में वर्ल्ड फूड डे मनाया जाता है। यूनाइटेड नेशन के अनुसार इस दुनिया के करीब 79.5 फीसदी लोगों के पास खाने के लिए कुछ भी नहीं है। जहां तक भारत का प्रश्न है, करीब 20 करोड़ लोग हर रोज भूखे पेट सोने के लिए मजबूर हैं। इसका मतलब 4 में से हर एक बच्चा भूखा रहता है।

भूख से मुक्ति दिलाने के उद्देश्य से वैश्विक स्तर पर विश्व खाद्य दिवस मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र संघ के करीब 150 से अधिक देश हर साल 16 अक्टूबर को विश्व खाद्य मनाते हैं। यूएन ने अपने एक रिपोर्ट में दावा किया है कि साल 2015 तक भूखमरी को आधा किया जा चुका है। लैटिन अमेरिका, कैरेबियन, साउथ ईस्ट, सेंट्रल एशिया और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में विशेष सुधार देखने को मिला है।

यूएन का कहना है कि आर्थिक विकास, कृषि क्षेत्र में पर्याप्त निवेश, राजनीतिक स्थायित्व और सामाजिक सुरक्षा से भूखमरी पर काबू पाया जा सकता है। पूरे विश्व की जनसंख्या 7.30 अरब है। जिसमें चीन की जनसंख्या 1.40 है तो भारत की आबादी 1.28अरब है। वहीं अमेरिका की आबादी मात्र 32 करोड़ है। पूरे विश्व की 47 फीसदी आबादी इन्हीं देशों में निवास करती है। जहां तक भूखे लोगों का प्रश्न है, अकेले 19.0 करोड़ भूखे लोग भारत में बसते हैं।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Samacharnama
Top