Tuesday, 04 Apr, 10.02 am The Siaset Daily

नवीनतम
जाकिर अली जिस दरोगा अख्तर अली की तस्वीर लगाने के इल्जाम में गिरफ्तार हुए वे थें कौन

सोशल मीडिया पर गंगा नदी के बारे में टिप्पणी करने लेकर मुज्जफरनगर कोतवाली पुलिस ने ज़ाकिर अली त्यागी नाम के लड़के को रविवार को गिरफ्तार कर लिया। अब सोशल मीडिया पर इस गिरफ्तारी को लेकर जबर्दस्त गुस्सा देखा जा रहा है। जाकिर अली के समर्थन में फेसबुक और ट्वीटर पर #istandwithzakialityagi ट्रेंड कर रहा है।

पूरा मामला है कि जाकिर अली त्यागी ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखी थी, जिसमें उन्होंने लिखा था, "अगर गंगा नदी जीवित मानव हैं तो क्या उनमें किसी व्यक्ति के डूबकर मौत हो जाती है तो गंगा पर हत्या का मुकदमा चलाया जाएगा?" दरअसल, जाकिर का इशारा पिछले दिनों उत्तराखंड हाईकोर्ट ते तरफ से आए उस फैसले की तरफ था जिसमें भारत की दो नदी गंगा ओैर यमुना को 'जीवित' का दर्जा दिया गया था।

अब सवाल उठता है कि जिस पुलिस वाले की तस्वीर जाकिर अली ने लगाई थी वो है कौन? दरअसल, जाकिर ने जिस पुलिस दारोगा की तस्वीर को अपना प्रोफाइल बना रखा था उनका नाम शहीद सब-इंस्पेक्टर अख्तर अली था। अख्तर अली की पुलिस विभाग में तैनाती 11 जून 2011 को हुई थी।

दरोगा अख्तर अली की हत्या 25 अप्रैल 2016 को दादरी में कर दी गई थी। तब पुलिस की एक टीम फुरकान नाम के एक बदमाश को पकड़ने के लिए दादरी कस्बे में गई थी। पुलिस को सुचना मिली थी वहां बदमाश छुपे हुए हैं। लेकिन पुलिस जब उस जगह पर पहुंची तो बदमाशों के गिरोह ने पुसिल टीम पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। उस हमले में अख्तर अली की मौत हो गई थी। इसके बाद पुलिस ने एक जांच टीम गठित की थी।

लेकिन पूरे घटनाक्रम एक मामला यह भी सामने आया था कि बदमाशों को पकड़ने जब पुलिस घर के अंदर गई तब अख्तर अली को गोली लगी और उनके साथी उनको तड़पता हुआ छोड़कर भाग गए थे। स्थानीय लोगों का कहना था कि दारोगा अख्तर अली को गोली लगने के बाद लगभग दो घंटा तक उन्हें लोगों ने तड़पते हुए देखा और उसके बाद उनकी मौत हो गई थी। फिर उनके मौत के बाद पुलिस घटना स्थल पर पहुंची थी और उनके लाश को उठाकर ले गई थी।

ग्रेटर नोएडा के पास शहीद हुए दारोगा अख्तर अली की पूरी कहानी जानिए विस्तार से. #ATVideo

Posted by on Monday, 25 April 2016

हालांकि कुछ स्थानीय लोगों ने उस समय मीडिया को बताया था कि जिस घर में पुलिस बदमाशों को पकड़ने गई थी उसमें कोई था ही नहीं। इसी लिए पुलिस ने बाद में कहा कि सारे के सारे बदमाश भाग गए। लेकिन उसके बाद सवाल उठा की जब बदमाश वहां नहीं छुपे थे तब सब-इंस्पेक्टर अख्तर अली को गोली किसने मारी? उसी शहीद दरोगा को श्रद्धांजलि देने के लिए जाकिर अली त्यागी ने उनकी तस्वीर फेसबुक पर लगाई थी।

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: The Siaset Daily Hindi
Top