Therealdestination.com Epaper, News, The Real Destination Hindi Newspaper | Dailyhunt
Hindi News >> Therealdestination.com

Therealdestination.com News

  • होम

    दो पल की ज़िंदगी है और अरमान बहुत हैं.

    दो पल की ज़िंदगी है, और अरमान बहुत हैं, कहते वो कुछ नहीं हैं, पर परेशान बहुत हैं। छुपे-छुपे से हैं रहते, दिखते कहीं नहीं हैं, कहने को तो वो...

    • 4 days ago
  • होम

    दो पल की ज़िंदगी है और अरमान बहुत हैं.

    दो पल की ज़िंदगी है, और अरमान बहुत हैं, कहते वो कुछ नहीं हैं, पर परेशान बहुत हैं। छुपे-छुपे से हैं रहते, दिखते कहीं नहीं हैं, कहने को तो वो...

    • 6 days ago
  • होम

    टूटकर फिर से जुड़ना,जुड़कर फिर बिखरना.

    टूटकर फिर से जुड़ना, जुड़कर फिर बिखरना, अखरता अब नहीं है, यूं रोज़-रोज़ मरना। राख हूं मैं बेशक, हवा तेज़ चल रही है, संग तेरे मैं उड़ रहा...

    • a week ago
  • होम

    मशहूर होने का शौक नहीं है.

    मशहूर होने का शौक नहीं है, ख़ुद की ख़ुद से पहचान ही काफी है, सपनो के पंख कटते कहाँ हैं, उड़ने के लिए हौसलों की उड़ान ही काफी हैं। तुम्हें जिंदगी की हर...

    • a week ago
  • होम

    उलझे हुए कुछ सपने हैं उलझी हुई कुछ ख्वाहिश हैं.

    उलझे हुए कुछ सपने हैं, उलझी हुई कुछ ख्वाहिश हैं, दिल में गहरी तड़पन है, कहीं दूर उनकी रिहाइश है। उनके बिना मैं अधूरा हूं, अधूरी...

    • 2 weeks ago
  • होम

    कड़ाके की ठंड और सर्द ये हवाएं.

    कड़ाके की ठंड, और सर्द ये हवाएं, तेरा हौले से मुस्कुराना, और दूरियों की ये सजाएं। शोला बनकर सुलग रहा हूं, यादों में अब मैं तेरी, तू मुझमें जल रही...

    • 2 weeks ago
  • होम

    ना किसी के साथ हूं ना किसी के पास हूं.

    ना किसी के साथ हूं, ना किसी के पास हूं, साल नया लग गया, मैं बेवजह उदास हूं। तारीख भी बदल गई, महीना भी बदल गया, तुम आकर मुझे सम्हाल लो, मैं...

    • 2 weeks ago
  • होम

    नफ़रत करता हूं तो उनकी अहमियत बढ़ जाती है.

    नफ़रत करता हूं तो, उनकी अहमियत बढ़ जाती है, चुप रहता हूं तो, उनकी मासूमियत बढ़ जाती है। उनसे भी ज्यादा कातिल है, उनकी दुश्मनी, वो...

    • 2 weeks ago
  • होम

    दुआओं का कोई रंग नहीं होता.

    दुआओं का कोई, रंग नहीं होता, इश्क करने का कोई, ढंग नहीं होता। आ न जाना कहीं तुम, वक्त की बातों में देखो, वक्त भी हमेशा, किसी के संग नहीं होता। दुनिया...

    • 2 weeks ago
  • होम

    कभी ख़ामोश रहूं मैं कभी कुछ तुम कहो ना.

    कभी ख़ामोश रहूं मैं, कभी कुछ तुम कहो ना, कभी शब्द कोई लिखूं मैं, कभी अर्थ तुम बनो ना। है बेचैन मेरा दिल, करार तुम बनो ना, ढूंढ़ता हूं मैं...

    • 3 weeks ago

Loading...

Top