The Real Destination Epaper, News, The Real Destination Hindi Newspaper | Dailyhunt
Hindi News >> The Real Destination

The Real Destination News

  • होम

    ज़िदगी तू अब हमें गिरकर फिर सम्हलने दे.

    ज़िदगी तू अब हमें, गिरकर फिर सम्हलने दे, खिलौना ना भी दे तो सही, दिल में हसरतें तो मचलने दे। सुनते रहे हम वो उम्र भर, जो तुमने कभी कहा नहीं,...

    • 2 days ago
  • होम

    जब दर्पण को देखा तो ऐसा लगा.

    जब दर्पण को देखा, तो ऐसा लगा, जैसे ख़ुद से मिले, एक अरसा हुआ है। भटकता रहा हूँ, मुसाफ़िरों की तरह से, जैसे मंजिलों के लिए, कोई तरसा हुआ है। जिदंगी की...

    • 2 weeks ago
  • होम

    दुनिया से छुप-छुपकर ही सही..

    दुनिया से छुप-छुपकर ही सही थोड़ा ख़ुद के लिए भी जिया करो किसी को तेरी फिक्र नहीं अपनी परवाह ख़ुद किया करो एक दूसरों की ख़िदमत के सिवा दुनिया में...

    • 4 weeks ago
  • होम

    चुपके से रात आती है.

    चुपके से रात आती है, सोए दर्द जगाती है, तन्हाई की धुन बजती है, पानी में आग लगाती है। वही गलती फिर मैं करता हूं, यादों के चेहरे पढ़ता हूं रात की दहलीज़ पर...

    • 4 weeks ago
  • होम

    दूर अब बहुत आ चुका हूं मैं.

    दूर अब बहुत, आ चुका हूं मैं, रात को भी दिन, बता चुका हूं मैं। हादसे लेकिन अभी, ख़त्म कहां हुए, हादसों को भी आदत, बना चुका हूं मैं। कहाँ से लाऊँ लफ़्ज़...

    • a month ago
  • होम

    रास्तों का मैं मुसाफिर हूँ.

    रास्तों का मैं मुसाफिर हूँ, मँज़िलो पे नहीं रूकता, मँज़िले दग़ा किया करती हैं, कभी रास्ता नहीं मुकरता। ये जरूरी नहीं है, हर बात की वजह हो, कभी...

    • a month ago
  • होम

    पहले ख़ुद को लुटाया था.

    पहले ख़ुद को लुटाया था, अब आदत बना ली है, पहले इश्क चुभता था, अब इबादत बना ली है। मिले हैं जख़्म कहाँ से, अब इसका नहीं है मतलब, पहले पेड़ कट गया था, अब कश्ती...

    • 2 months ago
  • होम

    जुबां को खामोश रखा था.

    जुबां को खामोश रखा था, आँखो से बयां हो गया, दोनो बराबर ज़िद्दी थे, इश्क आसान हो गया। फ़ना होने की इजाज़त थी, जीने का इंतज़ाम हो गया, मौसम ने करवट बदली थी,...

    • 2 months ago
  • होम

    उन्हें शिकायत बहुत थी हमसे.

    उन्हें शिकायत बहुत थी हमसे, अब ख़ुद से शिकायत हो गई है, पहले नफ़रत करने की ज़िद थी, अब नफ़रत भी इबादत हो गई है। उन्हें कितनी मोहब्बत थी हमसे, अब...

    • 2 months ago
  • होम

    उनसे ये कहना वाजिब नहीं है.

    उनसे ये कहना, वाजिब नहीं है, चाँद से भी ज्यादा, प्यारे लग रहे हो। उनसे अब कहना, मुनासिब यही है, जैसे भी हो, बस हमारे लग रहे हो। हज़ारों मुश्किलें हैं,...

    • 2 months ago

Loading...

Top