Monday, 23 Sep, 9.00 am हिन्दुस्थान समाचार

राष्ट्रीय
हाउडी मोदी: ट्रम्प ने इस्लामिक आतंक को जड़ से ख़त्म करने का किया ऐलान

-आतंकवाद पर नाम लिए बगैर पाकिस्तान पर जमकर बरसे मोदी

- भारत और अमेरिका के रिश्ते लोकतंत्र की बुनियाद पर खड़े हैं: ट्रंप


ह्यूस्टन/नई दिल्ली, 23 सितम्बर (हि.स.)। अमेरिका के ह्यूस्टन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सम्मान में रखे गए 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इस्लामिक आतंकवाद को जड़ से समाप्त करने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि हम भारत के साथ मिलकर इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ेंगे। भारत और अमेरिका के बीच नई रक्षा साझेदारी पर काम होगा। सीमा सुरक्षा के लिए दोनों देश साथ काम करेंगे। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल में दुनिया भारत को एक मजबूत देश के रूप में देख रही है। मोदी के नेतृत्व में भारत मजबूत हो रहा है।

वहीं, मोदी ने पाकिस्तान के नेताओं पर आतंकवाद को पालने-पोसने का आरोप लगाते हुए कहा कि आज इस हकीकत को पूरी दुनिया पहचानती है। न्यूयॉर्क के ट्विन टावर और मुंबई में हुए आतंकी हमलों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि सबको पता है कि इन हमलों के साजिशकर्ता किस देश में पनाह लिए हुए थे। उन्होंने आतंकवाद को शह देने वाले देशों के खिलाफ निर्णायक युद्ध छेड़ने का आह्वान करते हुए कहा कि भारत का मानना है कि राष्ट्रपति ट्रम्प भी आतंकवाद के खिलाफ मुहिम चलाने में विश्वास रखते हैं। उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय से आग्रह किया कि वह आतंकवाद से लड़ने का संकल्प रखने वाले ट्रम्प के सम्मान में अपने स्थान पर खड़े होकर उनका अभिवादन करें।

प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति ट्रम्प की मौजूदगी में जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने को जायज ठहराया तथा राज्य में अशांति फैलाने के मंसूबे के लिए पाकिस्तान को लताड़ लगाई। उन्होंने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत राष्ट्रपति ट्रम्प को अपना विश्वस्त सहयोगी मानता है।

टेक्सास राज्य की ऊर्जा नगरी ह्युस्टन में आयोजित "हाउडी मोदी" कार्यक्रम में 50 हजार से अधिक प्रवासी भारतीयों को सम्बोधित करते हुए नरेन्द्र मोदी ने कहा कि ट्रंप की सरकार ने बहुत सारे अनुचित और बेकार कानूनों को अलविदा कह दिया है। हाल में ऐसे ही एक प्रावधान को अलविदा कहा गया है। उन्होंने जनसमुदाय से पूछा, "आप समझ गए।'' प्रवासी भारतीयों की हर्षध्वनि और नारेबाजी के बीच उन्होंने कहा, "मैं अनुच्छेद 370 को अलविदा कहने का जिक्र कर रहा हूं। यह अनुच्छेद राज्य में अलगाववाद और आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा था।" मोदी ने ट्रम्प और अमेरिकी संसद के दोनों सदनों के अनेक सदस्यों की मौजूदगी में कहा कि अनुच्छेद 370 हटाकर सरकार ने जम्मू कश्मीर और लद्दाख के दलितों, बच्चों और महिलाओं को अधिकार संपन्न बनाया है। अब इन लोगों को अन्य देशवासियों की तरह ही अधिकार मिल गए हैं। पाकिस्तान और वहां के प्रधानमन्त्री इमरान खान का नाम लिए बिना उन्होंने कहा,"जिन लोगों से अपना देश नहीं संभल रहा वह अनुच्छेद 370 हटाए जाने से दिक्कत महसूस कर रहे हैं। इन लोगों ने भारत के खिलाफ नफरत को अपनी राजनीति का आधार बना रखा है। वे जम्मू-कश्मीर में अशांति पैदा करना और आतंकवाद फैलाना चाहते हैं।"

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने यहां कहा कि अमेरिका और भारत अंतरिक्ष में सहयोग बढ़ाने पर काम कर रहे हैं। दोनों देश रक्षा सहयोग भी बढ़ा रहे हैं, दोनों देशों की सेनाओं ने हाल ही में साथ में अभ्यास किया है। चरमपंथी इस्लामिक आंतकवाद से निर्दोष लोगों को हम साथ मिलकर बचाएंगे। ट्रम्प आज यहां आयोजित 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में एकत्रित 50 हजार से अधिक भारतवंशियों को सम्बोधित कर रहे थे। अमेरिकी राष्ट्रपति ने भारतीय समुदाय को धन्यवाद देते हुए कहा कि आप हमारी संस्कृति को समृद्ध बनाते हैं, आपने अमेरिका के लिए काफी योगदान दिया है। ट्रम्प ने कहा कि अमेरिका के साथ ही भारत के लिए भी सीमा की सुरक्षा महत्वपूर्ण है और अवैध प्रवासी एक गंभीर खतरा हैं। ट्रम्प ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भरोसेमंद दोस्त बताते हुए कहा कि मोदी भारत के लिए काफी अच्छा काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कुछ महीने पहले भारत में चुनाव हुए और लोगों ने मोदी और उनकी पार्टी के लिए मतदान किया। मैं उन्हें बधाई देता हूं। इसके साथ ही ट्रम्प ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उनके जन्मदिन की बधाई भी दी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी मैं आपके साथ दोनों देशों को और समृ्द्ध बनाने पर काम करना चाहता हूं। अमेरिका में भारतीय कंपनियां हजारों लोगों को रोजगार दे रही हैं। अमेरिका में अभूतपूर्व निवेश हो रहा है। भारत अमेरिका में अभूतपूर्व तरीके से निवेश कर रहा है, हम भी भारत में ऐसा ही कर रहे हैं।

ट्रम्प ने कहा कि हमारे दोनों देशों के रिश्ते लोकतंत्र की बुनियाद पर खड़े हैं। दोनों देशों में कानून के हिसाब से शासन चलता है। दोनों देशों का संविधान 'वी द पीपल' जैसे तीन महान शब्दों के साथ शुरू होता है। ट्रम्प ने भारत आने की अपनी इच्छा कुछ इस अंदाज में व्यक्त की, 'अगले साल एनबीए बास्केट बॉल खेल देखने के लिए हजारों लोगों मुंबई में जुटेंगे, क्या पीएम साहब मैं आमंत्रित हूं? अगर आप बुलाएंगे तो मैं आ सकता हूं।' अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि भारत और अमेरिका के बीच आज रिश्ते काफी प्रगाढ़ हो चुके हैं। मैं आपको भरोसा दिलाता हूं भारत के हित के लिए अब तक का सबसे अच्छा मित्र (डोनाल्ड ट्रम्प) ह्वाइट हाउस में है।

हिन्दुस्थान समाचार

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Hindusthan Samachar
Top