Sunday, 03 Nov, 5.20 pm हिन्दुस्थान समाचार

राष्ट्रीय
इंडो-पैसिफिक के बारे में भारत और आसियान देशों की एक जैसी राय नरेंद्र मोदी

इंडो-पैसिफिक के बारे में भारत और आसियान देशों की एक जैसी राय: नरेंद्र मोदी

बैंकाक/नई दिल्ली, 03 नवम्बर ( हि.स.)। प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि भारत और दक्षिण पूर्व एशिया सहयोग संगठन (आसियान) के बीच भारत-प्रशांत (इंडो पैसिफ़िक) अवधारणा के बारे में एक जैसी राय है। उन्होंने कहा कि भारत की "पूर्व में सक्रियता"(एक्ट ईस्ट) की नीति के आधार पर हम भारत-प्रशांत क्षेत्र पर विचार करते हैं ।

मोदी ने बैंकाक में भारत-आसियान की 16वीं शिखर वार्ता में अपने प्रारंभिक सम्बोधन में कहा कि भारत-प्रशांत क्षेत्र के में हमारे बीच समन्वय है, जो स्वागत योग्य है। उन्होंने कहा कि आसियान भारत की एक्ट ईस्ट नीति के केंद्र में है। इस शिखर वार्ता में आसियान के दस सदस्य देशों के नेताओं ने भाग लिया।

उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने चीन को काबू में रखने के लिए भारत-प्रशांत अवधारणा सामने रखी है, जिसमें वह भारत की सक्रिय भूमिका चाहता है। दूसरी ओर भारत इस नीति को एशियाई देशों के बीच समझदारी और सहयोग का माध्यम बनाने का इच्छुक है।

मोदी ने कहा कि आपस में जुड़ा हुआ, संगठित और आर्थिक रूप से विकासशील आसियान भारत के बुनियादी हित में है। हम जमीनी, समुद्री और हवाई संपर्क के साथ ही डिजिटल जुड़ाव को और मजबूत बना कर अपनी साझेदारी को और बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इस संपर्क के लिए भारत की ओर से घोषित एक अरब डॉलर की ऋण धनराशि उपयोगी होगी। भारत का इरादा अध्ययन, अनुसंधान, व्यापार और पर्यटन के लिए लोगों के आवागमन को बहुत बढ़ाने का है। प्रधानमन्त्री ने कहा कि भारत आसियान के साथ आपसी हितों के क्षेत्र में साझेदारी बढ़ाने के लिए तैयार हैं। पिछले साल आपसी संबंधों के सिलसिले में आयोजित स्मृति शिखर वार्ता तथा सिंगापुर में आयोजित अनौपचारिक शिखर वार्ता में लिये गए निर्णयों को लागू करने से हमारे बीच और घनिष्ठता आई है। कृषि, विज्ञान, रिसर्च, सूचना प्रोद्यौगिकी और इंजीनियरिंग जैसे क्षेत्रों में निर्माण और पार्टनरशिप को और बढ़ाने के लिए हम तैयार हैं।

मोदी ने आसियान और भारत मुक्त व्यापार समझौते की समीक्षा के निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि इससे हमारे आर्थिक सम्बन्ध न सिर्फ़ और मज़बूत बनेंगे बल्कि हमारा व्यापार भी और संतुलित होगा। समुद्री सुरक्षा, ब्लू इकॉनमी और मानवीय सहायता के क्षेत्रों में भी दोनों पक्ष अपनी साझेदारी को मज़बूत बनाना चाहते हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/सुफल/अनूप

Dailyhunt
Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by Dailyhunt. Publisher: Hindusthan Samachar
Top