मिजोरम में बनेगा पूर्वोत्तर भारत का पहला मोटर रेस ट्रैक, 10 करोड़ रुपये होंगे खर्च

Drive Spark via Dailyhunt

पूर्वोत्तर भारत के मोटर रेसिंग के शौकीनों के लिए एक खुशखबरी है। यहां जल्द ही अपनी तरह का पहला मोटर रेसिंग ट्रैक मिजोरम में बनने जा रहा है।

यह रेसिंग ट्रैक आइजोल से करीब 31 किलोमीटर दूर उत्तर में लेंगपुई में बनाया जायेगा। इस ट्रैक पर करीब 10 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना है।

मिजोरम के खेल मंत्री रॉबर्ट रोमाविया रॉयटे ने कहा कि रेजा खेल परिषद और राज्य की स्वमित्व वाली आरईसी लिमिटेड के बीच इसके लिए समझौता हुआ है। आइजोल के पास मोटर रेसिंग ट्रैक और स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स का निर्माण कराया जाएगा।

विश्वप्रसिद्ध है फॉर्मूला- वन रेस फॉर्मूला- वन और मोटर रेसिंग जैसे खेल दुनिया में सबसे ज्यादा देखे जाने वाले खेलों में से एक हैं। पूरी दुनिया में करोड़ों दर्शक इन खेलों का आनंद लेते हैं। भारत में मोटर रेसिंग की शुरुआत 107 वर्ष पहले हुई थी।

देश में पहली मोटर रेस 1904 में हुई थी। यह रेस मोटर यूनियन ऑफ़ वेस्टर्न इंडिया की ओर से कराई गई थी।

2011 में शुरू हुई पहली अंतरराष्ट्रीय रेस ग्रेटर नोएडा के बुद्ध अंतरराष्ट्रीय सर्किट का 2011 में उद्घाटन हुआ था। इस पर करीब 2,000 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। यह रेसिंग ट्रैक 5.4 किलोमीटर लंबा है जो 875 एकड़ में फैला हुआ है।

इसी ट्रैक पर ग्रां प्री ( Grand Prix) के नाम से पहली अंतरराष्ट्रीय फॉर्मूला- वन ( Formula- 1) रेस हुई थी।

यह रेस रेडबुल के रेसर सेबेस्टियन वीटल ने जीती थी। इसके बाद 2012 और 2013 में भी यहां फॉर्मूला वन रेस हुई। इसमें भी वीटल ही विजेता बने थे। 2013 के बाद से भारत में फॉर्मूला- वन रेस नहीं हुई है।

पूरी कहानी देखें