सिल बट्टा या मिक्‍सर ग्राइंडर: जानें क‍िसमें चटनी या मसाला पीसने से सेहत को मिलता है ज्‍यादा फायदा

Boldsky via Dailyhunt

पहले घरों में चटनी या मसाला पीसने के ल‍िए सिलबट्टे का इस्‍तेमाल क‍िया जाता था। गांवों में और घर के बुजुर्ग आज भी खाने को स्‍वादिष्‍ट बनाने के ल‍िए सिलबट्टे का ही इस्‍तेमाल करते हैं। लेक‍िन बदलते समय के साथ ही भारतीय रसोईयों में सिलबट्टे की जगह मिक्‍सर ने ले ली है।

मिक्‍सर में दो मिनट में हर चीज आसानी से तैयार हो जाती हैं। लेक‍िन क्‍या आप आप जानते हैं खाना बनाने के दौरान चाहे मसाला पीसना हो या फिर चटनी तैयार करनी हो तो इसके ल‍िए मिक्‍सर से ज्‍यादा सिलबट्टे को फायदेमंद माना जाता हैं।

डायटिशियन और न्‍यूट्रिशियन का भी ये ही मानना हैं। आइए जानते हैं क‍ि भारतीय रसोई में भोजन के ल‍िए सिलबट्टे पर मसाले पीसने से कैसे वो हमारे सेहत और स्‍वाद में जान फूंक देते हैं।

जिन्हें भूख नहीं लगने की समस्‍या रहती है, उनके लिए सिलबट्टे पर पिसे मसाले और चटनी भूख बढ़ाने का काम करते हैं। सिलबट्टे पर पिसे मसालों की खुशबू काफी देर तक रहती है।

यह सुगंध नाक के जरिए दिमाग तक पहुंचकर खाने के ल‍िए भूख को बढ़ाती है, जबकि मिक्सर में पिसे मसालों के साथ ऐसा नहीं होता है।

सिलबट्टे पर पिसे मसालों की जो खासियत है वो है इसका लंबा चलने वाला स्‍वाद। इसमें पीसे मसालों को जब सब्जी में डाला जाता हैं, तो खाने का स्वाद निखकर आता हैं। मिक्सर की ब्लेड की वजह से मसालों का स्वाद में परिवर्तन जाता है।

जैसे क‍ि ग्राइंडर में पिसे लहुसन के स्वाद में अक्सर कड़वापन पाया जाता है इसमें पीसी पुदीने की चटनी की गंध भी बदल जाती है।

सिलबट्टे पर पिसे मसाले की सबसे खास बात यह है क‍ि इससे पीसे मसालों में हीट जेनेरेट यानी मसालों की गर्माहट चली जाती है। अक्सर लोगों का मानना होता है क‍ि ज्‍यादा मसाले नहीं खाने चाह‍िए क्‍योंकि ये बहुत गर्म करते हैं।

कुछ तो मसालों की तासीर गर्म होती है और कुछ मिक्सर में पीसने की वजह से भी इसकी प्रकृति गर्म हो जाती है। ऐसे में अगर मसालों को सिलबट्टे पर पीसा जाए, तो ये शरीर में गर्मी पैदा नहीं करेंगे।

सिलबट्टे पर मसाला पीसने के दौरान हाथों को बहुत मशक्‍कत करनी पड़ती हैं। इससे हाथों की अच्छी एक्सरसाइज हो जाती है। वहीं मसाले या चटनी पीसने के दौरान जिस पॉश्चर में बैठते हैं, उससे पेट पर प्रेशर पड़ता है और पेट अंदर की तरफ दबता है।

सिलबट्टे पर नियमित मसाले पीसते रहने से पेट और जांघों के आस- पास की चर्बी जमा नहीं होती है।

पूरी कहानी देखें