Tesla ने इस बैटरी सेल की बनाई 10 लाख यूनिट, मॉडल वाय में होगी इस्तेमाल

Drive Spark via Dailyhunt

टेस्ला ने इस साल जनवरी में अपनी इलेक्ट्रिक कारों में इस्तेमाल किये जाने वाले 4680- टाइप बैटरी सेल के 10 लाख यूनिट का निर्माण पूरा किया है।

टेस्ला ने बताया है कि इस नई जनरेशन बैटरी का इस्तेमाल Model Y में किया जाएगा। कार और बाइक पर लेटेस्ट अपडेट पाने के लिए यहां क्लिक करें टेस्ला Model Y इलेक्ट्रिक कारों का उत्पादन अमेरिका के टेक्सस में किया जा रहा है।

टेस्ला 2020 से अपनी नई जनरेशन की 4680- टाइप ईवी बैटरी पैक का निर्माण कर रही है। हालांकि, कंपनी ने आज तक इस बैटरी के उत्पादन दर का खुलासा नहीं किया है।

नई जनरेशन के 4680- टाइप लिथियम- आयन बैटरी पैक अधिक ऊर्जा कुशल हैं और अधिक ऊर्जा भंडारण की क्षमता के साथ आते हैं, जिसके चलते इन बैटरियों से लैस इलेक्ट्रिक कारों का प्रदर्शन काफी बेहतर होता है।

जबकि शुरुआत में इसका इस्तेमाल टेस्ला Model Y इलेक्ट्रिक कारों में किया जाएगा, बाद के चरण में, कार ब्रांड इस बैटरी सेल का उपयोग अन्य ईवी में भी करेगा। टेक्सस में निर्मित टेला Model Y इलेक्ट्रिक कारों के इस तिमाही के अंत से पहले बाजार में प्रवेश करने की उम्मीद है।

जैसा कि सितंबर 2020 में बैटरी डे इवेंट के दौरान टेस्ला ने खुलासा किया, 4680 लिथियम- आयन बैटरी सेल एक संरचनात्मक बैटरी पैक के साथ आता है और यह एक नया सेल प्रारूप है।

किसी भी नए लिथियम- आयन रसायन का उपयोग करने के बावजूद कई क्षेत्रों में महत्वपूर्ण सुधार लाने की उम्मीद है।

680 बैटरी सेल बड़े आकार में आते हैं, जिसका अर्थ है कि वे वर्तमान में उपयोग की जाने वाली 2170 प्रकार की बैटरी कोशिकाओं की तुलना में पांच गुना अधिक ऊर्जा संग्रहीत कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, टेस्ला Model Y लॉन्ग रेंज 4416 2170 टाइप के बैटरी सेल से संचालित होती है।

दूसरी ओर, मेड- इन- टेक्सस टेस्ला Model Y 900 से कम 4680 टाइप की बैटरी सेल द्वारा संचालित होगी जिसकी क्षमता समान होगी। बैटरी सिस्टम का उच्च ऊर्जा घनत्व एक छोटे बैटरी पैक का उपयोग करके इलेक्ट्रिक कारों के लिए समान रेंज प्राप्त करने की अनुमति दे सकता है।

टेस्ला ने अभी तक एमआईटी Model Y कारों के बारे में कोई विशेष जानकारी नहीं दी है।

भारत सरकार ने टेस्ला की कारों पर लगने वाले आयात शुल्क में कटौती करने से मना कर दिया है। बता दें कि टेस्ला ने बाहर के देशों से आयात होने वाली अपनी कारों पर लगने वाले टैक्स के दर में भारत सरकार से छूट की अपील की थी।

वर्तमान में, टेस्ला भारत में कारों का निर्माण शुरू करने की योजना में नहीं है, इसके बदले कंपनी चीन या अमेरिका से अपनी कारों को भारत में मंगाएगी।

बता दें कि टेस्ला ने जुलाई, 2021 में परिवहन मंत्रालय और उद्योग मंत्रालय को एक चिट्ठी लिखी थी, जिसमें कंपनी ने इलेक्ट्रिक कारों पर आयात शुल्क ( Import Duty) को घटाकार 40 फीसदी करने का आग्रह किया था।

अभी भारत में इलेक्ट्रिक कारों पर आयात शुल्क 60 से लेकर 100 फीसदी है।

भारत सरकार के उद्योग मंत्रालय ने कहा था कि अगर टेस्ला भारत में इलेक्ट्रिक कारों का उत्पादन शुरू करेगी तभी उसे उत्पाद प्रोत्साहन योजना ( PLI) के तहत लाभ दिया जाएगा।

मंत्राला ने यह भी कहा कि टेस्ला को भारत के निर्माताओं से 500 मिलियन डॉलर मूल्य के ऑटो पार्ट्स खरीदने होंगे।

पूरी कहानी देखें