रूस- यूक्रेन युद्ध: वैश्विक वाहन बाजार पर पड़ेगा बुरा असर, कच्चे तेल और गैस की कीमतों में होगा इजाफा

Drive Spark via Dailyhunt

दुनिया भर में कोविड-19 महामारी से उबरते हुए ऑटोमोबाइल बाजार के लिए अब रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध ने नई चुनौतियों को जन्म दे दिया है।

ऑटोमोबाइल विशेषज्ञों का मानना ​​है कि चूंकि ऑटो उद्योग तांबे और सिलिकॉन जैसी आवश्यक वस्तुओं पर निर्भर है, इसलिए युद्ध के संकट का इस क्षेत्र पर अल्पकालिक प्रभाव पड़ेगा।

Click here to get the latest updates on Ukraine - Russia conflict

डेलॉयट इंडिया के पार्टनर रजत महाजन का कहना है कि ऑटो उद्योग महामारी की वजह से मांग में कमी के साथ- साथ सेमीकंडक्टर्स मुद्दों पर दिखाई देने वाले सकारात्मक संकेतों से उबरने की उम्मीद कर रहा था, इस मौजूदा स्थिति से कुछ प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकते हैं।

महाजन का कहना है कि एक ऐसे चरण में जहां दोपहिया वाहनों की बिक्री रिकॉर्ड निचले स्तर पर है और उद्योग वापस उछाल की कोशिश कर रहा है, तेल की कीमतों में कोई भी वृद्धि निश्चित रूप से उपभोक्ता भावनाओं को प्रभावित करेगी।

कच्चे तेल की कीमतों में किसी भी बदलाव का मांग पर असर पड़ने की संभावना है। जब तक खुदरा ईंधन की कीमतें समान प्रवृत्ति का पालन नहीं करती हैं, तब तक तेल विपणन कंपनियों का मार्जिन प्रभावित होगा।

रूस और यूक्रेन के बीच मौजूदा युद्ध मोटर वाहन क्षेत्र द्वारा पहले से ही सामना किए जा रहे कई मुश्किलों को बढ़ा देगा। एसीएमए के महानिदेशक विन्नी मेहता ने कहा, " हम स्थिति पर गौर कर रहे हैं और उम्मीद है कि चीजें जल्द ही सामान्य हो जाएंगी।"

रूस पैलेडियम के सबसे बड़े निर्यातकों में से एक है जिसका उपयोग ऑटोमोटिव निकास प्रणाली में किया जाता है। मौजूदा हालातों में निश्चित रूप से कॉपर, पैलेडियम और अन्य जैसे धातुओं में कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि हो सकती है, जिससे ओईएम के लिए वाहन निर्माण की लागत बढ़ेगी।

विशेषज्ञों का कहना है कि चूंकि रूस कच्चे तेल के सबसे बड़े उत्पादकों में से एक है, इसलिए मौजूदा संकट से कुछ दिनों में तेल की कीमतें 100 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर जा सकती हैं।

जेपी मॉर्गन के एक विश्लेषण में कहा गया है कि तेल की कीमतों में 150 डॉलर प्रति बैरल की बढ़ोतरी से वैश्विक जीडीपी विकास दर घटकर सिर्फ 0.9 फीसदी रह जाएगी।

विश्लेषकों का कहना है कि कच्चे तेल की कीमतें बढ़ने से वैश्विक जीडीपी पर प्रभाव पड़ता है।

हिंदुस्तान पेट्रोलियम के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक एम के सुराणा के अनुसार, मौजूदा समय में प्रति दिन 9,00,000 बैरल कच्चे तेल की कमी है और निश्चित है कि आने वाले दिनों में रूस- यूक्रेन संकट कच्चे तेल की कीमतों को प्रभावित करेगा।

रिपोर्ट्स के अनुसार, भारत की आधे से अधिक गैस की जरूरत यूक्रेन से तरल प्राकृतिक गैस ( एलएनजी) के आयात से पूरी होती है और छोटा हिस्सा रूस से भी प्राप्त किया जाता है।

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने कहा, " रूस- यूक्रेन संघर्ष की स्थिति में वैश्विक तेल और एलएनजी की कीमतों में तेज वृद्धि देखने की संभावना है, जिसका शुद्ध ऊर्जा आयातकों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।"

पूरी कहानी देखें