Types of Engine Oil: आपके वाहन के लिए कौन सा इंजन ऑयल है बेस्ट, यहां जानें

Drive Spark via Dailyhunt

इंजन आयल केवल इंजन के लिए लुब्रिकेशन का काम करता है बल्कि इंजन के तापमान को नियंत्रित रखता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि इंजन ऑयल के कितने प्रकार होते हैं और इनके इस्तेमाल का मुख्य कारण क्या है।

1. कन्वेंशनल इंजन ऑयल कन्वेंशनल इंजन ऑयल को हम प्राकृतिक या मिनरल इंजन ऑयल भी कह सकते हैं जो पूरी तरह पेट्रोलियम उत्पाद होता है। यह इंजन ऑयल समुद्र तल से निकाले जाने वाले क्रूड ऑयल यानि कच्चे तेल के साथ बाहर आता है।

पेट्रोलियम रिफाइनरी में कच्चे तेल से इंजन ऑयल को अलग किया जाता है। इस प्रक्रिया में इसमें एंटी- फोमिंग एजेंट, जिंक, फास्फोरस और सल्फर माल्यूकल एसिड जैसे एडिटिव्स मिलाए जाते हैं। ये एडिटिव्स इंजन के पुर्जों के बीच घर्षण और ऑक्सीकरण के प्रभाव को कम करते हैं।

हालांकि, कन्वेंशनल इंजन ऑयल सबसे सस्ते होते हैं लेकिन इनकी कुछ खामियां भी हैं। इस प्रकार इंजन आयल किफायती होते है लेकिन ये ज्यादा लंबे समय तक इंजन को सुरक्षित नहीं रख सकते।

प्राकृतिक रूप से उपलब्ध होने के कारण ये इंजन आयल कम रिफायन होते हैं जिससे इन्हें कम समय अंतराल में बदलने की जरूरत पड़ती है। कम अंतराल में बदलने का मतलब ये बिलकुल भी नहीं है कि ये इंजन आयल खराब हैं।

कन्वेंशनल इंजन ऑयल भी पूरी तरह इंजन को सुरक्षित रखते हैं, बजाए इसके कि इन्हें समय- समय पर बदल दिया जाए।

2. सेमी- सिंथेटिक इंजन ऑयल साधारण इंजन ऑयल सिंथेटिक ऑयल की तुलना में काफी सस्ता होता है, लेकिन इसकी परफॉर्मेंस सिंथेटिक ऑयल की तुलना में कम होती है।

इसी को ध्यान में रखते हुए निर्माताओं ने मिनरल और सिंथेटिक इंजन ऑयल के बीच एक संतुलन बनाने के लिए सेमी- सिंथेटिक इंजन ऑयल को पेश किया।

सेमी- सिंथेटिक इंजन ऑयल मूल रूप से मिनरल ऑयल होता है जिसमें 30 प्रतिशत तक सिंथेटिक ऑयल मिलाया जाता है। यह ग्राहकों के लिए लागत को कम करता है साथ ही साधारण ऑयल से बेहतर भी होता है।

3. फुल सिंथेटिक इंजन ऑयल फुल सिंथेटिक इंजन ऑयल आधुनिक प्रकार का इंजन ऑयल है, इसलिए इसके उपयोग के फायदे ज्यादा है।

फुल सिंथेटिक ऑयल को पूरी तरह फैक्ट्री या लैब में केमिकल से तैयार किया जाता है, इसलिए इनके निर्माण प्रक्रियाओं को नियंत्रित करना आसान हो जाता है। फुल सिंथेटिक ऑयल ज्यादा रिफायन होते हैं इसलिए ये वाहन के इंजन के लिए सबसे बेहतर माने जाते हैं।

हालांकि, ये इंजन ऑयल सबसे महंगे भी होते हैं। सिंथेटिक इंजन ऑयल अन्य की तुलना में ज्यादा लंबा चलता है। यह इंजन के अंदर के पुर्जों के घर्षण को कम करता है जिससे इंजन लंबे समय तक अच्छा रहता है और मेंटेनेंस के खर्च में बचत होती है।

4. हाई- माइलेज ऑयल हाई- माइलेज इंजन ऑयल में कुछ खास तरह के एडिटिव्स मिलाए जाते हैं जिससे कार की माइलेज बढ़ जाती है। इस तरह के इंजन ऑयल का वाष्पीकरण कम होता है और इंजन की समग्र प्रदर्शन में सुधार करता है।

यह उन वाहनों में इस्तेमाल किये जाते हैं जो लंबे दूरी की यात्रा करते हैं। अगर आप अपनी कार या बाइक को ज्यादा उपयोग में लाते हैं तो ज्यादा माइलेज के लिए हाई- माइलेज इंजन ऑयल सबसे बेहतर विकल्प हो सकता है।

पूरी कहानी देखें