माहवारी आने पर दही खाना चाहिए या नहीं, जानें सच है या मिथक

Boldsky via Dailyhunt

ऐसा माना जाता है कि पीरियड्स के दौरान दही खाने से रक्त प्रवाह बढ़ जाता है और इससे असुविधा हो सकती है, लेकिन क्या यह सच है? यहां आपको इसके बारे में जानने की जरूरत है! जब पीरियड आते है तो ऐंठन, सूजन, शरीर में दर्द और मूड स्विंग भी साथ आते हैं। इस दौरान आप क्या खाते हैं यह मायने रखता है।

जी हां, पीरियड्स के दौरान दही का सेवन करने से कोई दिक्‍कत नहीं होती हैं।

एशियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज, फरीदाबाद की प्रमुख आहार विशेषज्ञ विभा बाजपेयी कहती हैं, " कैल्शियम के अच्छे स्रोत के रूप में दही हमारी हड्डियों और शरीर को पर्याप्त ताकत देने में मदद करता है।

इसके अलावा, दही में मौजूद प्रोबायोटिक के गुण सूजन और अन्य पाचन समस्याओं को कम करने में काम करती है। पीरियड्स के दौरान दही का सेवन चिंता और अवसाद को कम करने के साथ- साथ मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन को कम करने में मदद करता है।

पीरियड्स के दौरान खट्टे खाद्य पदार्थों और दही से परहेज करना सदियों पुरानी मान्यता है जो केवल मिथक हैं। ये किसी भी तरह से आपकी परेशानी को नहीं बढ़ाते हैं।

वास्तव में, दही को स्वस्थ गट्स बैक्टीरिया को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए माना जाता है, जिससे सूजन या कब्ज की संभावना कम हो जाती है, जो ज्यादातर महिलाओं को उनके पीरियड्स के दौरान होती है।

पीरियड्स के दौरान दही खाने का एक सबसे अच्छा तरीका है छाछ या लस्सी क्योंकि यह हमारे शरीर को हाइड्रेट करने में मदद करता है और खोए हुए पोषक तत्वों की पूर्ति करता है।

दही प्रोटीन और कैल्शियम का एक समृद्ध स्रोत होने के कारण हमारी हड्डियों, दांतों और शरीर के अन्य कार्यों के लिए अच्छा है। जिन लोगों को खांसी- जुकाम हो या जिन्हें अस्थमा की समस्या हो उन्हें रात के समय दही का सेवन नहीं करना चाहिए।

आपका आहार आपके मासिक धर्म के दिनों में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अतिरिक्त मसालेदार भोजन से दूर रहें।

पूरी कहानी देखें