FSSAI: कैंसर- डायब‍िटीज जैसी बीमारियों को न्‍यौता देता है मार्जरीन, ये है असली- नकली मक्‍खन में फर्क करने का तर

Boldsky via Dailyhunt

मक् खन एक प्रकार का डेयरी उत्पाद है। मार्जरीन मक् खन की तरह दिखने वाला डेयरी उत् पाद है।

मक्खन में सैचुरेटेड फैट होता है। एक चम्मच में लगभग सात ग्राम वसा होती है। इसका ज्यादा सेवन करने से आपका LDL यानी बैड कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है। बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल एथेरोस्क्लेरोसिस को बढ़ा सकता है और रक्त के थक्कों, स्ट्रोक और दिल के दौरे के खतरे को बढ़ा सकता है।

नकली मक्‍खन खाने से इन समस्‍याओं का खतरा बढ़ जाता हैं।

मक्खन कोलेस्ट्रॉल से एलडीएल बढ़ सकता है। क्योंकि इसमें सैचुरेटेड फैट होता है जो दिल के लिए खतरनाक होता है। इसके अधिक सेवन से हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है।

कोलेस्ट्रॉल धमनियों को अवरुद्ध कर सकता है, जिससे निश्चित रूप से दिल का दौरा पड़ने का खतरा बढ़ जाता है।

अध्ययनों से पता चलता है कि बहुत अधिक मक्खन खाने से आंत में वसा विकसित होने की संभावना बढ़ सकती है। इससे आपके पेट में अतिरिक्त चर्बी जमा हो सकती है। इससे हृदय रोग, अल्जाइमर और टाइप 1 मधुमेह समेत कई गंभीर बीमारियों का खतरा हो सकता है।

इससे पेट और आंतों में चर्बी जमा हो सकती है। मक्खन में प्रति चम्मच 100 से अधिक कैलोरी होती है। जब आप बहुत अधिक खाते हैं, तो तेजी से मोटापा बढ़ सकता है। मक्खन आपके लिए असली या नकली दोनों तरह से खतरनाक है।

हाल ही में हुई अल्जाइमर रिसर्च मेडिकल जर्नल में 2018 के एक अध्ययन के अनुसार, मक्खन जैसे संतृप्त वसा के उच्च सेवन को अल्जाइमर रोग और मनोभ्रंश के विकास की संभावना से जोड़ा जा सकता है।

मार्जरीन आपके पेट को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है और दस्त और उल्टी का कारण भी बन सकता है।

View this post on InstagramA post shared by FSSAI ( @fssai_safefood) source: boldsky.com Dailyhunt

पूरी कहानी देखें