ओला इलेक्ट्रिक का मैन्युफेक्चरिंग प्लांट लगभग बनकर हुआ तैयार, जल्द शुरू होगा उत्पादन। ओला इलेक्ट्रिक भारत में अपना पहला इलेक्ट्रिक स्कूटर 15 अगस्त को लॉन्च करने के लिए तैयार है।

Drive Spark via Dailyhunt

ओला इलेक्ट्रिक के सीईओ भाविश अग्रवाल ने ट्विटर पर ओला फ्यूचरफैक्ट्री की एक हवाई तस्वीर को साझा किया है। भाविश अग्रवाल ने सोशल मीडिया पर फ्यूचरफैक्ट्री की तस्वीर साझा करते हुए लिखा ग्राउंड जीरो!""

इस इलेक्ट्रिक स्कूटर की बुकिंग पहले ही शुरू हो चुकी है। इसे कंपनी की वेबसाइट से सिर्फ 499 रुपये की अग्रिम राशि के साथ बुक किया जा सकता है।

इसकी कीमत की बात करें तो माना जा रहा है कि इस इलेक्ट्रिक स्कूटर को करीब 1 लाख रुपये की कीमत पर उतारा जा सकता है। इस साल की शुरुआत में ओला इलेक्ट्रिक ने घोषणा की थी कि कंपनी 500 एकड़ जमीन पर एक मेगा फैक्ट्री का निर्माण कर रही है।

ओला इलेक्ट्रिक ने दोपहिया वाहनों के लिए दुनिया का सबसे बड़ा मैन्युफेक्चरिंग प्लांट विकसित करने के लिए दिसंबर में तमिलनाडु सरकार के साथ 2,400 करोड़ रुपये के समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे। प्लांट के लिए भूमि अधिग्रहण इस साल जनवरी में पूरा किया गया था और निर्माण कार्य फरवरी के अंत से शुरू हुआ था।

ओला इलेक्ट्रिक ने जानकारी दी थी कि इलेक्ट्रिक स्कूटर प्लांट का पहला चरण जल्द ही चालू हो जाएगा और फैक्ट्री को रिकॉर्ड समय में चालू करने के लिए 10 मिलियन से अधिक मैन- आवर्स की योजना बनाई गई है। फैक्ट्री शुरुआती चरण में 20 लाख इलेक्ट्रिक स्कूटर्स का उत्पादन करेगी।

ओला इलेक्ट्रिक की यह मेगा फैक्ट्री इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों की एक श्रृंखला के लिए ओला इलेक्ट्रिक के ग्लोबल मैन्युफेक्चरिंग हब के तौर पर काम करेगी। यहां बनने वाले इलेक्ट्रिक स्कूटर भारत में तो बेचे ही जाएंगे साथ ही यूरोप, यूके, लैटिन अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसी अंतरराष्ट्रीय बाजारों में निर्यात भी होंगे।

ओला इलेक्ट्रिक का दावा है कि यह मैन्युफेक्चरिंग प्लांट भारत सबसे ज्यादा ऑटोमेटेड प्लांट होगा, क्योंकि यह ओला के अपने एआई इंजन और तकनीकी स्टैक द्वारा संचालित होगा, जो पूरे कारखाने के संचालन में गहराई से इंटीग्रेट किया जाएगा।

फैक्ट्री के पूरी तरह से चालू होने पर इसमें लगभग 5,000 रोबोट और ऑटोमेटेड गाइडेड व्हीकल तैनात किए जाएंगे। इसके अलावा कंपनी का दावा है कि इंडस्ट्री 4.0 टेक्नोलॉजी को शामिल करने के बावजूद कारखाने में 10,000 नौकरियां पैदा होंगी।

पूरी कहानी देखें