मैंने कभी ध्यान नहीं दिया कि लोग मेरी बॉडी टाइप को लेकर क्या बातें कर रहे हैं': शालिनी पांडे

Filmi Beat via Dailyhunt

अर्जुन रेड्डी' में दिए गए अपने कमाल के परफॉर्मेंस से शालिनी को शोहरत मिली। वह स्वीकार करती हैं कि अपने लुक को लेकर महिलाओं की बेवजह नुक्ताचीनी की जाती है।

शालिनी कहती हैं, वजन घटाने की इस खास जरूरत के लिए मुझे खाने- पीने के एक प्लान पर अमल करना पड़ा, और सौभाग्य से मैं एक ऐसी फिल्म कर रही थी, जिसमें डांस रिहर्सल बहुत होती थी, जिसने मेरा वजन घटाने में बड़ा साथ दिया।""

रणवीर सिंह के अपोजिट

शालिनी ' जयेशभाई जोरदार' की बिग स्क्रीन रिलीज को लेकर बेहद उत्साहित हैं। वह बताती हैं कि उन्हें अपनी फिल्म को सिनेमाघरों में रिलीज होते देखने वाली उत्तेजना का ' मजा' रहा है।

शालिनी पांडे का बॉलीवुड डेब्यू

वह कहती हैं, मैं फिल्मों में काम करने के लिए हमेशा बड़ी उत्सुक रही हूं। मैंने एक्टिंग और फिल्म मेकिंग की प्रक्रिया का हमेशा आनंद उठाया है। इसलिए मैं यह नहीं कहूंगी कि बड़े पर्दे पर होने जा रहे मेरे हिंदी डेब्यू का मुझ पर कोई दबाव है।"

मैंने अपने किरदार के लिए कड़ी मेहनत की है

ऑन- स्क्रीन परफॉर्मेंस को बेहतरीन बनाने के लिए

एक आर्टिस्ट के रूप में अपने ऑन- स्क्रीन परफॉर्मेंस को बेहतरीन बनाने के लिए शालिनी अपने बॉडी टाइप को बदलने में हमेशा सहज महसूस करती हैं।

बॉडी टाइप बदलने में कोई हिचक नहीं

वह बताती हैं, मैं अपने हाथ में आए हर प्रोजेक्ट में ढेर सारी इनर्जी और पैशन झोंक देने वाली एक्टर हूं।" अगर किसी फिल्म की स्क्रिप्ट और मेरे निर्देशक की जरूरत है कि मैं स्क्रीन पर एक खास तरह की दिखूं तो मुझे अपना बॉडी टाइप बदलने में कोई हिचक या समस्या नहीं होगी।"

ऑथेंटिक परफॉर्मेंस

शालिनी कहती हैं, बॉडी को बदलते वक्त उसमें हार्मोन संबंधी जबर्दस्त बदलाव सकते हैं।" वह कहती हैं कि अगर उनके किरदार को एक खास तरह का दिखने की जरूरत है, तो क्यों आगे बढ़ा जाए? ऐसा करने से मुझे स्क्रीन पर ऑथेंटिक परफॉर्मेंस देने में मदद ही मिलेगी।"

पूरी कहानी देखें