Vazirani Ekonk: गई भारत की पहली इलेक्ट्रिक हाइपरकार, 300 किमी/ घंटा से भी ज्यादा की स्पीड

Drive Spark via Dailyhunt

भारतीय इलेक्ट्रिक वाहन स्टार्टअप वजीरानी ऑटोमोटिव ( Vazirani) ने देश की सबसे तेज सिंगल- सीटर हाइपरकार एकॉन्क ( Ekonk) का खुलासा किया है। स्पेसशिप जैसी ऑल- इलेक्ट्रिक कार भी सबसे हल्की इलेक्ट्रिक हाइपरकार है, जिसका वजन कुल मिलाकर 738 किलोग्राम है।

वजीरानी ऑटोमोटिव के नए एकॉन्क इलेक्ट्रिक हाइपरकार में नए इनोवेटिव बैटरी सॉल्यूशन का उपयोग किया गया है जो पारंपरिक जटिल लिक्विड कूलिंग तकनीक से अलग और बेहतर है।

यह DiCo नामक एक तकनीक का उपयोग करती है जो बैटरियों को लिक्विड कूलिंग की आवश्यकता के बिना, सीधे हवा से ठंडा करने में सक्षम बनाता है।

वजीरानी का दावा है कि यह तकनीक इस इलेक्ट्रिक कार को हल्का, तेज, सुरक्षित और लागत प्रभावी बनाने के साथ- साथ इसकी रेंज को भी बढ़ाती है। हाइपरकार की बॉडी को पूरी तरह से कार्बन फाइबर से बनाया गया है, जिससे वजन कम करने में मदद मिलती है।

वजीरानी एकॉन्क हाइपरकार अपनी तरह की सबसे कम ड्रैग वाली कार है। अपने एयरोडायनामिक डिजाइन की वजह से इसे सबसे तेज स्पीड हासिल करने में मदद मिलती है। एयर ड्रैग को कम करने के लिए पहियों को कवर किया गया है।

वजीरानी एकॉन्क 722 बीएचपी का पावर आउटपुट पैदा करता है। कंपनी ने हाल ही में इस हाइपरकार को इंदौर के पास बनाये गए Naxtrax व्हीकल टेस्टिंग ट्रैक में परीक्षण किया है। इस टेस्ट में हाइपरकार ने 309 किमी प्रति घंटे की शीर्ष गति हासिल की।

वहीं इस कार ने केवल 2.54 सेकंड में 0 - 100 किमी प्रति घंटा की रफ्तार का रिकॉर्ड बनाया।

एकॉन्क से प्राप्त डेटा और तकनीकी सीख को कंपनी Shul ( शुल) के प्रोडक्शन वर्जन पर लागू करेगी, जो भारत की पहली कॉन्सेप्ट हाइपरकार है, जिसे यूके में गुडवुड फेस्टिवल में प्रदर्शित किया गया था।

वजीरानी बाद में ग्राहकों के लिए एकॉन्क की एक सीमित श्रृंखला के उत्पादन शुरू कर सकती है।

भारतीय शास्त्रों में ' एकोंक' शब्द का अर्थ है ' दिव्य प्रकाश की शुरुआत'। इलेक्ट्रिक वाहन ऑटोमेकर के लिए एक नए युग की शुरुआत को दर्शाता है।

वजीरानी- ऑटोमोटिव के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंकी वजीरानी ने कहा, " भारत के लिए इस ईवी युग को नया करने, विकसित करने और अग्रणी बनाने का यह सही समय है।"

पूरी कहानी देखें