मोहम्मद शमी के समर्थन में उतरे सचिन- लक्ष्मण- पठान समेत कई खिलाड़ी, ऑनलाइन निशाना साधने वालों को लताड़ा

My Khel via Dailyhunt

भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गये मुकाबले में विराट सेना को 10 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। इस जीत के बाद जहां पाकिस्तानी टीम के फैन्स भारत को ट्रोल करते नजर आये तो वहीं पर कुछ भारतीय फैन्स भी अपनी मर्यादा को भूलकर खिलाड़ियों के पीछे पड़ गये हैं।

इस फेहरिस्त में क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर का नाम भी है जिन्होंने मोहम्मद शमी के समर्थन ट्वीट करते हुए लिखा कि जब हम भारतीय टीम का समर्थन करते हैं तो हम उसमें शामिल हर खिलाड़ी का समर्थन करते हैं जो भारत का प्रतिनिधित्व करता है।

मोहम्मद शमी अपने देश के लिये समर्पित विश्वस्तरीय गेंदबाज हैं और जैसे हर खिलाड़ी का दिन खराब हो सकता है उनके लिये भी वैसा ही एक दिन गुजरा। मैं भारतीय टीम और मोहम्मद शमी का पूरी तरह से समर्थन करता हूं।

वहीं भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने कहा कि मोहम्मद शमी पिछले 8 सालों से भारत के लिये विश्व क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करते रहे हैं और कई सारी बड़ी जीत में अहम योगदान दिया है। वह एक प्रदर्शन के दम पर परिभाषित नहीं किये जा सकते हैं।

मेरी शुभकामनायें हमेशा ही उनके साथ रहती हैं। मैं फैन्स और फॉलोर्स से यही विनती करता हूं कि वो भारतीय टीम और उनका समर्थन करें।

मशहूर भारतीय कॉमेंटेर हर्षा भोगले ने भी इस मामले पर अपनी राय रखी है और ऑनलाइन निशाना बनाने वालों को लताड़ा है।

उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि जो लोग मोहम्मद शमी के बारे में घटिया बातें कर रहे हैं, उनसे मेरी एक ही विनती है कि आप क्रिकेट देखें और क्रिकेट को आपकी कमी भी महसूस नहीं होगी।

इसके साथ ही हर्षा भोगले ने अपने ट्वीट में #Shami # 355 WicketsforIndia के हैशटैग का इस्तेमाल किया।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने मोहम्मद शमी के समर्थन में ट्वीट कर लिखा कि शमी एक भारतीय गेंदबाज हैं और हमें उन पर गर्व है। पाकिस्तान के खिलाफ हार के बाद उन पर निशाना साधना बहुत ही शर्मनाक है।

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व हरफनमौला खिलाड़ी इरफान पठान ने भी इस मामले पर ट्वीट किया और लिखा कि मैं भी भारत- पाकिस्तान के बीच खेले गये उन मैचों का हिस्सा रहा हूं जिसमें हमें हार का सामना करना पड़ा था, लेकिन मुझे कभी भी पाकिस्तान जाने के लिये नहीं कहा गया।

मैं कुछ साल पहले वाले भारत की बात कर रहा हूं। इस तरह की वाहियात चीजों का रुकना बेहद जरूरी है।

पूरी कहानी देखें