रवि शास्त्री ने चुने 3 भारतीय खिलाड़ी, जो उनकी देखरेख में तेजी से आगे बढ़े

My Khel via Dailyhunt

नई दिल्ली। पूर्व भारतीय क्रिकेटर और कोच रहे रवि शास्त्री ने अपने कार्यकाल को लेकर खुलकर बात की है। आईसीसी टी 20 विश्व कप 2021 के रूप में उनका बताैर कोच आखिरी असाइनमेंट था। उनकी जगह अब राहुल द्रविड़ ले चुके हैं।

शास्त्री ने अब उन तीन खिलाड़ियों को चुना है जो जिनका उनकी देखरेख में तेजी से क्रिकेट करियर आगे बढ़ा है। शास्त्री ने ऋषभ पंत, शुभमन गिल और जसप्रीत बुमराह का नाम लिया। यह भी पढ़ें- रवि शास्त्री का बयान आया सामने, नए ODI कप्तान रोहित के लिए कही ये बातें

शास्त्री को वीक में बात करते हुए कहा, " वे शानदार हैं। पंत, शुभमन गिल, बुमराह। उन्हें भारत में डब्यू किए हुए अभी कुछ ही साल हुए हैं। उनका अपने पुराने खिलाड़ियों के समान ही विश्वास है। यह सिर्फ इतना है कि युवाओं का उत्साह और निडरता कहीं अधिक है।

वे पिछली पीढ़ियों की तुलना में कहीं अधिक अनुभवी हैं।" शास्त्री, जिनका टीम इंडिया के साथ कार्यकाल टी 20 विश्व कप 2021 के बाद समाप्त हुआ, ने कहा कि आईपीएल ने खेल की गतिशीलता को काफी हद तक बदल दिया है।

शास्त्री ने कहा, " मैंने हमेशा कहा है कि आईपीएल से फर्क पड़ा है। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम साझा करना, उनके साथ और उनके खिलाफ खेलना और फिर भारतीय टीम में आना, यह उन्हें कहीं अधिक अनुभवी बनाता है।

जब मैं घरेलू क्रिकेट में खेल रहा था तो मैंने जिस तेज गति से गेंद का सामना किया था, वह 74 किमी प्रति घंटे थी। फिर जब मैंने भारतीय टीम के लिए खेलते हुए इमरान खान और वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाजों का सामना किया तो उनका सामना करना मुश्किल लगता था।"

बुमराह ने 2016 में डेब्यू किया और तीनों प्रारूपों में राष्ट्रीय टीम के लिए खुद को अहम खिलाड़ी साबित किया। उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग ( आईपीएल) में मुंबई इंडियंस के लिए शानदार खेल दिखाया था, जिसके बाद वह राष्ट्रीय टीम में जुड़े।

2018 अंडर -19 विश्व कप में प्लेयर ऑफ टूर्नामेंट बनने के बाद गिल सामने आए। उसी साल उन्होंने आईपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए डेब्यू किया, जिसके बाद उन्होंने 2019 में न्यूजीलैंड के दौरे में पहली बार भारत के लिए खेलने का माैका मिला।

पंत ने 2017 में डेब्यू किया था और भारतीय टीम का एक अभिन्न हिस्सा रहे हैं। खासकर एमएस धोनी के जाने के बाद। 2017 से 2021 तक भारत के मुख्य कोच के रूप में काम करने वाले शास्त्री ने निडरता दिखाने के लिए तीनों की सराहना की।

पूरी कहानी देखें