इन 3 खिलाड़ियों के लिए ' करो या मरो' वाला हो सकता है अफ्रीकी दाैरा

My Khel via Dailyhunt

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम न्यूजीलैंड को अपन घर में पस्त करने के बाद साउथ अफ्रीका में तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के साथ दाैरे की शुरूआत करेगी। पहला मैच 26 दिसंबर से शुरू होगा। इस सीरीज के लिए 18 सदस्यीय टीम की घोषणा कर दी गई है।

टीम की कमान विराट कोहली और उपकप्तान रोहित शर्मा संभालेंगे। इसके बाद भारत फिर तीन ही वनडे मैचों की सीरीज खेलेगा। हालांकि कुछ खिलाड़ियों के लिए यह दौरा करो या मरो जैसा है।

यदि कुछ भारतीय खिलाड़ी इस दौरे पर अच्छा प्रदर्शन करने में विफल रहते हैं तो उन्हें अपनी जगह गंवानी पड़ सकती है। आइए जानें काैन हैं वो 3 खिलाड़ी- यह भी पढ़ें- कोहली को BCCI ने दिया झटका, आकाश चोपड़ा बोले- हम पहले ही कर चुके थे चर्चा

इस बल्लेबाज का करियर अंत की ओर जाता दिख रहा है। रहाणे पहले उपकप्तान थे, लेकिन अफ्रीकी दाैरे के लिए उनका डिमोशन किया गया, उनकी जगह रोहित शर्मा को उपकप्तान चुन लिया गया। रहाणे पिछले कुछ महीनों से अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे हैं।

न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में वह सिर्फ एक मैच खेल पाए थे, जिसमें वह फ्लाॅस साबित हुए थे। एक बल्लेबाज के तौर पर पिछले 2 साल से उनका प्रदर्शन फ्लॉप रहा है। उन्होंने अपना आखिरी शतक पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लगाया था।

अगर वह अफ्रीकी के दौरे पर अच्छा प्रदर्शन नहीं करते हैं तो यह उनका आखिरी दौरा हो सकता है। रहाणे आखिरी 12 टेस्ट मैचों में सिर्फ 411 रन ही बना सके हैं।

भरोसेमंद मुख्य बल्लेबाज भी भरोसे के लायक प्रदर्शन नहीं कर पा रहे हैं। न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। उन्होंने 2019 के बाद से टेस्ट क्रिकेट में एक भी शतक नहीं लगाया है।

पुजारा की जगह खतरे में है क्योंकि घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी जगह की तलाश में हैं। इसलिए अगर वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में फ्लॉप रहते हैं तो यह सीरीज उनके लिए आखिरी सीरीज हो सकती है।

पुजारा ने इस साल 13 टेस्ट खेले हैं, जिसमें वह सिर्फ 686 रन ही बना सके।

युवाओं आगमन से इशांत को भी टीम में खुद को बनाए रखने के लिए दमदार प्रदर्शन दिखाना होगा। भारत के सबसे तेज गेंदबाज टीम के सबसे सीनियर गेंदबाज हैं। उन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट में मौका दिया गया था। हालांकि वह एक भी विकेट नहीं ले पाए थे।

उनकी गेंदबाजी पर न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों ने खुलकर बैटिंग की थी। ऐसे में उनके लिए भी अगर प्रदर्शन में सुधार नहीं हुआ तो साउथ अफ्रीका का दौरा आखिरी दौरा हो सकता है।

पूरी कहानी देखें