Volkswagen की कारों का उत्पादन अगले साल हो सकता है कम, जानें क्या है इसकी वजह

Drive Spark via Dailyhunt

कार निर्माता कंपनी Volkswagen इस साल की तुलना में अगले साल और भी कम कारों का उत्पादन करने की संभावना जता रही है।

ऐसा इसलिए क्योंकि मौजूदा समय में चल रहे वैश्विक सेमी- कंडक्टर्स की कमी ऑटोमोटिव उद्योग को परेशान कर रही है। Manager Magazin नामक एक जर्मन व्यापार प्रकाशन ने इस डेवलपमेंट की जानकारी दी है।

रिपोर्ट में इस मामले को लेकर कुछ परिचित स्रोतों का हवाला दिया गया है। जानकारी के अनुसार Volkswagen ने चालू वर्ष के लिए अपने वाहन वितरण पूर्वानुमान को पिछले सप्ताह 9.3 मिलियन से घटाकर 9 मिलियन कर दिया था।

यह जानकारी सामने आई है कि ऑटोमेकर साल 2023 की शुरुआत तक चिप की कमी की उम्मीद कर रहा है। सबसे खराब स्थिति की संभावना की उम्मीद करते हुए, रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2022 में डिलीवरी 8 मिलियन कारों तक हो सकती है।

इसके साथ ही अगर स्थिति सकारात्मक रहती है, तो भी डिलीवरी इस साल की संख्या से थोड़ी कम हो सकती है। हालांकि Volkswagen ने कहा कि वह अगले साल आपूर्ति की स्थिति में मामूली कमी की उम्मीद कर रही है, हालांकि पहली छमाही बहुत अस्थिर रह सकती है।

कुछ महीने पहले BMW और Daimler जैसे वाहन निर्माताओं ने भी कहा था कि वे अगले साल तक सेमीकंडक्टर की कमी की उम्मीद कर रहे हैं। आपको बता दें कि BMW का भी मानना है कि साल 2022 की दूसरी छमाही से ही कमी कम होगी।

Volkswagen की Audi और Skoda ने आपूर्ति श्रृंखला में मौजूद बाधाओं के कारण कई उत्पाद सुविधाओं में 10 जनवरी तक छुट्टियां बढ़ा दी हैं। हाल ही में Audi के एक प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी आने वाले साल में उत्पादन में कमी रहने की उम्मीद कर रही है।

प्रवक्ता ने कहा कि " कमी और भी लंबी हो सकती है।" नवंबर में Volkswagen की अन्य लक्जरी शाखा जैसे Porsche ने सेमीकंडक्टर की कमी पर प्रकाश डाला और बताया कि वाहन निर्माताओं को अपने स्वयं के चिप्स का निर्माण शुरू करना चाहिए।

Porsche के सीईओ, Oliver Blume ने भी कथित तौर पर कहा था कि " जो कोई भी मानता है कि चिप संकट अगले साल खुद ही बंद हो जाएगा, वह गलत है।"

इसके अलावा कुछ स्वदेशी वाहन निर्माता कंपनियां जैसे Maruti Suzuki और Tata Motors भी इस समस्या से जूझ रही हैं।

बता दें कि हाल ही में Volkswagen Group ने भारतीय बाजार में साल 2022 में दशक की सबसे अधिक बिक्री का अनुमान लगाया है। कंपनी साल 2020 के मुकाबले 2021 में 75 - 80 प्रतिशत अधिक बिक्री का अनुमान लगा रही है।

ऐसा इसलिए क्योंकि अगले साल Volkswagen Group 18 नए मॉडल्स लॉन्च की योजना बना रही है, जिस वजह से कंपनी साल 2022 में दोगुनी बिक्री का अनुमान लगा रही है। ऐसे में ग्रुप की बिक्री 100, 000 यूनिट प्रतिवर्ष के पार हो सकती है।

बता दें कि कंपनी ने India 2.0 योजना के तहत 7500 करोड़ रुपये का निवेश किया है और इसका परिणाम अब दिखने लगा है, जिस वजह से इस साल बिक्री शानदार रही है। कंपनी अब इसे साल 2022 में दोगुना करने का लक्ष्य लेकर चल रही है।

पूरी कहानी देखें