साबुदाना खिचड़ी vs दाल खिचड़ी, जानें वेटलॉस के ल‍िए क्‍या है बेस्‍ट ऑप्‍शन

Boldsky via Dailyhunt

खिचड़ी झटपट और आसानी से बनने वाली डिश है जिसे आप जब भी भूख लगे, बना सकते हैं।

यह एक पौष्टिक भोजन है, जो पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व प्रदान करता है जो केवल आपके वेटलॉस पर हेल्‍प करता है बल्कि आपको हेल्‍दी भी रखता है। भारत के विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न प्रकार की खिचड़ी बनाई जाती है जैसे बाजरे की खिचड़ी, साबूदाना की खिचड़ी, तुअर दाल की खिचड़ी।

सभी की तैयारी, स्वाद और स्वास्थ्य लाभ की अपनी अलग विधि है। यहां हमने पारंपरिक तुअर दाल की खिचड़ी की तुलना साबूदाना खिचड़ी से की है। आइए जानते हैं क‍ि वजन कम करने की कोशिश करते समय दोनों में से कौन सा बेहतर विकल्प है।

साबूदाना या साबूदाना से बने पकवान के बिना कोई भी भारतीय उपवास पूरा नहीं होता है। इसे मीठे और नमकीन दोनों ही तरह से बनाकर खा सकते हैं। उष्णकटिबंधीय ताड़ के पेड़ की जड़ के खाने योग्य भाग से निकाला गया साबूदाना एक पौष्टिक भोजन है।

हालांक‍ि आप इसकी गिनती पौष्टिक भोजन में नहीं कर सकते हैं। इसमें थोड़ी मात्रा में प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम और पोटेशियम होता है। साबूदाना का नकारात्मक पक्ष यह है कि इसमें कार्बोहाइड्रेट और कैलोरी की मात्रा बहुत अधिक होती है।

स्टार्च जटिल कार्ब्स होते हैं जिनमें कई जुड़े हुए ग्लूकोज अणु होते हैं, जिनका उपयोग शरीर द्वारा ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। साबूदाना की सबसे अच्छी बात यह है कि यह ग्लूटेन मुक्त होता है और सीलिएक रोग से पीड़ित लोगों के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प हो सकता है।

साबूदाने की खिचड़ी को सेहतमंद बनाने के लिए आप इसमें ढेर सारी सब्जियां और मूंगफली शामिल कर सकते हैं। लेकिन साबूदाने के सेवन से अन्य लाभ भी होते हैं क्योंकि यह मुक्त अणुओं से होने वाले नुकसान को कम कि या जा सकता है, पाचन में सुधार करने में मदद कर सकता है, हृदय रोग के जोखिम को कम कर सकता है और रक्तचाप को नियंत्रित कर सकता है।

जब आप अपनी खिचड़ी में दाल का इस्तेमाल करते हैं तो यह सेहतमंद होनी चाहिए।

चाहे आप चावल के साथ किसी भी तरह की दाल मिला लें, अगर आप चावल के साथ तूअर दाल या किसी अन्य दाल का उपयोग करते हैं, तो यह साबूदाने की खिचड़ी की तुलना में बहुत अधिक स्वास्थ्यवर्धक होगी। मसूर में सामान्य रूप से पोषक तत्वों की प्रचुरता होती है।

तुअर दाल या अरहर की खिचड़ी प्रोटीन और स्वस्थ कार्ब्स का एक बड़ा स्रोत है। प्रोटीन कोशिका वृद्धि और पुनर्जनन में मदद करता है, जो कुछ किलो वजन कम करने की कोशिश करते समय महत्वपूर्ण है। दाल खिचड़ी की एक सर्विंग में केवल 203 कैलोरी होती है।

सबसे पहले, दाल खिचड़ी प्रोटीन से भरपूर होती है, ये लंबे समय तक भूख से आपको बचाती है। ये उच्‍च फाइबर और फोलिक एसिड का एक स्रोत है। इसके अलावा, यह व्यंजन मधुमेह और हृदय रोगियों के लिए भी अच्छा है।

उच्च फोलिक एसिड की उपस्थिति के कारण, गर्भवती महिलाओं के ल‍िए ये पौष्टिक आहार हैं। तुअर दाल खिचड़ी के साथ एकमात्र समस्या चावल की मात्रा है। चावल को फैट बढ़ाने के ल‍िए जाना जाता है, इसलिए ज्यादातर लोग वजन कम करने की कोशिश में इससे बचते हैं।

दरअसल, चावल सेहत के लिए अच्छा होता है और इसे आपके नियमित आहार का हिस्सा होना चाहिए। खिचड़ी बनाते समय आप चावल का भाग पहले से निश्चित कर लें।

जानें क्‍या खाएं? अगर हम साबूदाने की खिचड़ी की तुलना पारंपरिक दाल खिचड़ी सेवन में बेहतर है। यह अधिक पौष्टिक होता है, इसमें कम कैलोरी होती है और यह एक स्वस्थ विकल्प है।

इसमें मौजूद फाइबर आपको भरा हुआ रखने में मदद कर सकता है और पोषक तत्व वसा जलने की प्रक्रिया को बढ़ा सकते हैं। आप अपनी खिचड़ी तैयार करने के लिए किसी भी तरह की दाल का इस्तेमाल कर सकते हैं। सभी पौष्टिक और स्वास्थ्य के लिए अच्छे हैं।

पूरी कहानी देखें