Panna Tiger Reserve: कभी टाइगर तो कभी तेंदुआ रोक लेता है रास्ता, भालू भी सैलानियों को लुभा रहे
Panna Tiger Reserve पन्ना टाइगर रिजर्व में सुबह और शाम को साइटिंग के दौरान वनराज के खूब दीदार हो रहे हैं। रिजर्व के अलग- अलग इलाकों में कभी शावकों को घुमाने निकली मादा, तो कभी पहाड़ों पर वनराज तो तेंदुओ और भालुओं को देखकर पर्यटक रोमांचित हो रहे हैं।
सबसे ज्यादा मड़ला और हिनौता रेंज में टाइगर देखने को मिलते हैं। सुबह और शाम को टाइगर सफारी के लिए आने वाले देशभर के पर्यटकों को यहां बाघ फैमिली के नजदीक से देखने का मौका मिल रहा है। गीता एक जादुई पुस्तक, बार- बार पढ़ें, हर बार श्लोकों से नया अर्थ निकलता है
पर्यटकों को बाघिन और शावकों की अठखेलियां देखने को मिल रही बाघिन पी- 141 अपने दो शावकों के साथ जंगल में घूमती नजर आती है। पर्यटकों को एक साथ बाघिन और शावकों की अठखेलियां देखने को मिल रही हैं। पिछले दिनों बाघिन सैलानियों के ठीक सामने गई।
वह छोटी घास के मैदान में शावकों के आगे- आगे चल रही थी। बाघिन के साथ शावक एकदम पर्यटकों की गाड़ियों के ठीक सामने से गुजरे तो पर्यटकों की धड़कड़ने बढ़ गईं। पर्यटक एकदम से बाघ परिवार को अपने पास देखकर सांस रोककर दीदार करते रहे।
हिनौता में पी 652 की मस्तानी चाल पर सैलानी फिदा पन्ना टाइगर रिजर्व की हिनौता रेंज में टाइगर पी- 652 सुबह के समय अक्सर घूमता नजर जाता हैं। लगभग हर दूसरे दिन वह सैलानियों के आसपास मदमस्त और मस्तानी चाल से चलते हुए दाएं बाएं नजर आता है।
बाघ को देखने के लिए सैलानी जंगल में कई- कई किलोमीटर तक का सफर कर हिनौता पहुंचते हैं।
बाघ पी- 243 का पहाड़ी पर डेरा, पानी के आसपास आता है नजर बाघ पी- 243 का पहाड़ी पर डेरा, पानी के आसपास आता है नजर, पीटीआर की हिनौता रेंज में ही बाघ पी- 243 भी पर्यटकों और जंगल सफारी करने वालों के लिए विशेष आकर्षक का केंद्र बना हुआ है।
यहां पहाड़ी इलाके में नदी के पानी के आसपास यह बाघ डेरा जमाए हुए हैं। अपनी टेरेटरी में सुबह से लेकर दोपहर तक गुनगुनी धूप सेंकते हुए नजर जाता हैं। पी- 243 टाइगर इस इलाके में सबसे खास आषर्कण का केंद्र बना हुआ है।
लेपर्ड ने रोका वाहनों का रास्ता, फिर धीरे से झाड़ियों में चल गया मड़ला रेंज में एक लेपर्ट ने सैलानियों की गाड़ियों का रास्ता रोक लिया। तेदुआ देखते ही एक के पीछे एक वाहनों की कतार लग गई। लेपर्ट जंगल के पगडंडी वाले रास्ते से मस्ती से चलते हुए रहा था।
तेंदुए को इतने नजदीक देख सैलानियों ने फटाफट कैमरे में उसकी तस्वीरें और वीडियो कैद कर लिए। लेपर्ड मस्ती से टहलता हुए गाड़ी के आगे से झाड़ियों में गुम हो गया।
मादा भालू के साथ बच्चे की अठखेलियां जंगल सफारी के लिए सैलानियों के लिए वैसे तो पन्ना में टाइगर ही विशेष आकर्षण का केंद्र होते हैं, लेकिन कभी- कभी यहां अन्य जानवर भी सैलानियों को लुभाने में पीछे नहीं रहते हैं।
बीते दिनों जंगली रास्ते के किनारे एक मादा भालू और उसका बेबी भालू उसके साथ मस्ती करते नजर आया। भालू का बच्चा अपनी मां के साथ कभी अठखेलियां करता तो कभी सैलानियों को देखकर उछलकूद करता नजर रहा था।
By Chaitanyadas Soni Oneindia source: oneindia.com Dailyhunt