Artemis- 1: चांद पर 52 पहले फेल हुआ था Apollo 13 मिशन, अब बनेगा नया कीर्तिमान
Artemis- 1: एएसए का ओरियन कैप्सूल आर्टेमिस- 1 मिशन ( Artemis- 1) ने की शानदार तस्वीरें अपने कैमरे में कैद की हैं। चंद्रमा की सतह ही अंतरिक्ष यान ने निकटता से तस्वीरें ली हैं। स्पेसक्राफ्ट ने 130 किलोमीटर की दूरी तय की।
इससे 52 साल पहले चंद्रमा पर एक ऐसा ही मिशन फेल हो गया। लेकिन केप कैनावेरल के तट से लॉन्च किए जाने के दस दिन बाद ओरियन अंतरिक्ष यान रिकॉर्ड बुक में अपना नाम दर्ज कराने के लिए तैयार है। खाली पेट पीते हैं कॉफी तो हो जांए सावधान! बिगड़ सकता है आपका स्वास्थ्य, होगा ये नुकसान
चंद्रमा पर 4,32,192 KM की यात्रा स्पेस मिशन आर्टेमिस- 1 के तहत स्पेस में भेजा गया अंतरिक्ष यान खासतौर पर मानव के लिए डिजाइन किया गया है। इस अंतरिक्ष यान द्वारा तय की गई सबसे दूर की दूरी के लिए अपोलो 13 द्वारा निर्धारित रिकॉर्ड को पार कर जाएगा।
ये स्पेसक्राफ्ट चंद्रमा पर 4,32,192 किलोमीटर की यात्रा करेगा।
अंतरिक्षयान ने भेजी ताजा तस्वीरें मिशन के छठें दिन चंद्रमा की सतह की कुछ खास तस्वीरें आईं। जो कि चंद्रमा पर काफी निकटता से ली गईं। आर्टेमिस 1 मिशन के अंतरिक्ष यान ने ये तस्वीरें चंद्रमा सतह से 130 किलोमीटर ( 80 मील) की दूरी से ली हैं।
ब्लैक- एंड- व्हाइट तस्वीरें नासा ने इन तस्वीरों को पोस्ट करते हुए लिखा, " ओरियन के ऑप्टिकल नेविगेशनल सिस्टम का उपयोग करके छवि प्राप्त की गई थी, जो विभिन्न चरणों और श्रेणियों में पृथ्वी और चंद्रमा की ब्लैक- एंड- व्हाइट तस्वीरें रिकॉर्ड करती हैं"।
दरअसल, अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने गुरुवार को चंद्रमा के विभिन्न हिस्सों की चार तस्वीरें जारी कीं।
25 दिन तक चलेगा स्पेस मिशन ओरियन नौवें दिन अपने मिशन पर है। ये मिशन एक नया रिकॉर्ड स्थापित करने से सिर्फ एक दिन दूर है। अंतरिक्ष यान चंद्रमा के चारों ओर एक दूर की प्रतिगामी कक्षा में प्रवेश करेगा। ये 4,200 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से आगे बढ़ रहा है।
25 दिनों तक चलने वाले इस मिशन का उद्देश्य मनुष्यों को चंद्रमा पर वापस भेजने में प्रणाली का व्यावहारिक रूप प्रदर्शन करना है।
क्या था अपोलो 13 मिशन? अपोलो 13 अपोलो अंतरिक्ष कार्यक्रम में सातवां क्रू मिशन था। ये चंद्रमा पर उतरने वाला तीसरा मिशन था। अंतरिक्ष यान को 11 अप्रैल 1970 को कैनेडी स्पेस सेंटर से प्रक्षेपित किया गया था।
लेकिन मिशन में दो दिन सर्विस मॉड्यूल में ऑक्सीजन टैंक के विफल होने के बाद चंद्रमा पर लैंडिंग रद्द कर दी गई गई थी। अंतरिक्ष यान ने पृथ्वी से 4,00,171 किलोमीटर की दूरी तय की थी।
लेकिन नासा इस मिशन पर जाने वाले सभी तीनों अंतरिक्ष यात्रियों को सुरक्षित रूप से वापस लाने में कामयाब हुआ था।
By Mukesh Pandey Oneindia source: oneindia.com Dailyhunt