SBI : एक बार करें निवेश और हर महीने पाएं मोटी रकम, जानिए क्या है स्कीम
SBI : जो स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ( एसबीआई) है उसके पास ग्राहकों की सुविधा के लिए बहुत सारी योजनाएं है, जो फिक्स्ड आय के लिए शानदार विकल्प है। एसबीआई की एक ऐसी ही योजना है। जिस स्कीम का नाम एसबीआई एन्युटी डिपॉजिट योजना हैं।
इस योजना में जो पैसा होता है उसको एक साथ जमा करना होता है। उसके बाद आपको हर महीने ब्याज के साथ आपको गारंटीड कमाई होती है। इस योजना में ग्राहकों को हर महीने प्रिंसिपल राशि के साथ ब्याज दिया जाता है।
यह ब्याज खाते में बची रकम पर हर 3 महीने में कम्‍पाउंडिंग पर कैलकुलेट किया जाता है। एजुकेशन लोन के बजाय इस्तेमाल करें Student Credit Card, पढ़ाई के लिए नहीं होगी पैसों की दिक्कत
इसमें 36, 60, 84, 120 महीने के लिए डिपॉजिट किया जा सकता है एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार, इस योजना में जो ब्याज दर है। वो बचत खाते से अधिक है। इस योजना में जो डिपॉजिट करते है। उस राशि में वही ब्याज मिलता है, जो बैंक टर्म डिपॉजिट यानी एफडी पर मिलता हैं।
इसमें जो ग्राहक होते है उनको एक यूनिवर्सल पासबुक जारी की जाती है। यह जो योजना है। इस योजना में 36, 60, 84 या 120 महीने के लिए डिपॉजिट किया जा सकता है। यह जो योजना है। एसबीआई के सभी ब्रांच के लिए उपलब्ध है।
इसमें कम से कम 1 हजार रु महीने के एन्यूटी के हिसाब से डिपॉजिट करना होगा और अगर हम मैक्सिमम की बात करते है, तो फिर इसकी कोई सीमा नहीं है।
तक लगेगा एन्‍युटी आय पर एसबीआई की यह जो योजना है। इस योजना में एन्यूटी का भुगतान डिपॉजिट होने के अगले महीने निर्धारित तारीख पर किया जाता है। अगर किसी महीने जो तारीख है वो 29, 30 और 31 नहीं है, तो उसके अगले महीने की एक तारीख को जो एन्यूटी है। वो मिलेगी।
जो एन्यूटी का भुगतान है उसको टीडीएस काटकर लिंक्ड सेविंग्‍स अकाउंट या करंट अकाउंट में क्रेडिट किया जाएगा। जो एसबीआई एन्यूटी डिपॉजिट स्‍कीम है। उसमें आम ग्राहक और वरिष्ठ नागरिक को टर्म डिपॉजिट पर मिलने वाला ब्‍याज मिलता है।
यह जो स्कीम है उस स्कीम में इंडिविजुअल नॉमिनेशन की सुविधा उपलब्ध है। जो ग्राहक होते है उनको यूनिवर्सल पासबुक भी जारी किया जाएगा। योजना का जो खाता है उस खाते को एक ब्रांच से दूसरे ब्रांच में ट्रांसफर करने की सुविधा होती है।
ओवरड्रॉफ्ट 75 प्रतिशत किया जा सकता है यह जो एसबीआई की स्कीम है आवश्यकता के वक्त बहुत काम की है। आवश्यकता के हिसाब से राशि का ओवर ड्राफ्ट मिल सकता हैं। जब ओवरड्राफ्ट लेते है उसके बाद पेमेंट लोन खाते में क्रेडिट होगा।
वहीं, जो डिपॉजिटर है अगर वो गुजर जाता है, तो फिर इस योजना को समय से पहले बंद की जा सकता हैं। इसके अलावा 15 लाख रु तक की डिपॉजिट के लिए भी वक्त में प्री पेमेंट है उसको भी किया जा सकेगा। वही जो प्री- मैच्‍योर पेनल्‍टी है उसको भी उसी के हिसाब से देनी होगी।
जिस रेट से एफडी पर लगता है। यह जो खाता है उस खाता की सिंगल या ज्‍वाइंट होल्डिंग हो सकती है।
By Ritesh Pateliya Goodreturns source: goodreturns.in Dailyhunt