बड़ी बीमारियों से बचा सकती है लो सोडियम डाइट, जानें कितनी मात्रा सही
लो सोडियम डाइट का सेवन आपकी शरीर पर भारी पड़ सकता है।
कोलेस्ट्रोल कम करने में मददगार प्रोसेस्ड फूड्स जिन्हें हम चटकारे लेकर खाते है, में मौजूद कैमिकल्स और सोडियम की मात्रा सीधा आपके कोलेस्ट्रोल पर वार करते हैं।
इसीलिए ये मैटाबॉलिक सिंड्रोम के कारणों में से एक माना जाता है।
किडनी को रखें हेल्दी चूंकि, अधिक सोडियम वाले भोजन का सेवन करने से आपकी किडनी में मौजूद ब्लड वसल्स कमजोर पड़ सकती हैं।
जिससे किडनी से जुड़ी समस्याएं होने की आशंका बन जाती हैं। और जब किडनी अच्छे से काम नहीं करती तो बॉडी में सोडियम के साथ साथ कुछ लिक्विड का जमाव हो जाता है।
जो ब्लडप्रेशर जैसी अन्य समस्याओं को भी ट्रिगर करता हैं। ऐसे में ये जरूरी है कि सोडियम के लेवल को कंट्रोल में रखा जाए।
सोडियम की अधिक मात्रा आपकी दिल की सेहत के लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है। हार्ट अटैक, हार्ट फेलियर और स्ट्रोक जैसी समस्याओं का कारण बनती है।
दरअसल शरीर में सोडियम की अधिक मात्रा ब्लीडिंग बढ़ा सकती है, जिसके कारण हार्ट डिज़ीज हो सकती है। इसलिए सोडियम का सेवन कम करने में समझदारी।
ब्लडप्रेशर को बढ़ने से रोकें जब हम हाई सोडियम डाइट लेते है तो ये हमारे शरीर में घुसकर ब्लडप्रेशर को बढ़ाता है।
और इसके साथ ही कई बीमारियों के होने का खतरा भी बढ़ा जाता है। ऐसे में अच्छा यही है प्राकृतिक उपचार के तौर पर लो सोडियम डाइट का सेवन करें।
इसकी बजाय, फलों और सब्जियों को अपनी रेगुलर डाइट में शामिल करें, क्यूंकि इनमें सोडियम की मात्रा कम और फाइबर एवं मिनिरल की मात्रा अधिक पाई जाती है।
विज़न बढ़ाए ब्लडप्रेशर बढ़ने के कारण आपकी ब्लड वसल्स धीरे- धीरे नष्ट होने लगती हैं।
इन कोशिकाओं के नष्ट होने के कारण आपको आंखों से जुड़ी समस्याएं होना शुरू हो जाती है और इस कारण आंखों की रोशनी पर भी असर पड़ता है।
लो सोडियम डाइट कौन- सी है - आलू, शकरकंद, ब्रॉकली, गोभी आदि सब्जियां और फल।- ब्राउन राइस, अंडे।- डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे दही, दूध।- चाय, कॉफी और सब्जियों का जूस।
- बादाम, सीताफल के बीज।
By Pooja Joshi Boldsky source: boldsky.com Dailyhunt